मध्य प्रदेश: बसपा विधायक दिल्ली तलब, सोनिया- मायावती के बीच फोन पर बातचीत

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनावो के परिणामो के रुझानो में कांग्रेस और बीजेपी में कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है। फिलहाल दोनों ही पार्टियां बहुमत से दूर हैं। ऐसे में अन्य की भूमिका बेहद अहम मानी जा रही है।

ताज़ा रुझानों के मुताबिक कांग्रेस 109, बीजेपी 110 तथा अन्य 11 सीटों पर आगे चल रहे हैं। अन्य में बसपा के पांच उम्मीदवार आगे कल रहे हैं। वहीँ सूत्रों के मुताबिक बहुजन समाज पार्टी ने नतीजे आने से पहले ही अपने उम्मीदवारों को दिल्ली पहुँचने के निर्देश दिए हैं।

सूत्रों की माने तो बसपा के संभावित विधायकों की खरीद फरोख्त के मद्देनज़र बसपा सुप्रीमो मायावती ने बसपा के प्रदेश अध्यक्ष से चुनावी नतीजे आने के बाद जीतने वाले विधायकों को तुरंत दिल्ली लेकर आने को कहा है।

सूत्रों की माने तो बसपा किसी हाल में बीजेपी को समर्थन न करने का मन बनाया है। बसपा के करीबी सूत्रों की माने तो बहुजन समाज पार्टी किसी कीमत पर बीजेपी को समर्थन नहीं करेगी। सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस की तरफ से अभी कोई प्रस्ताव नहीं आया है। जब प्रस्ताव आएगा तो इस पर विचार किया जाएगा।

वहीँ दूसरी तरफ चुनावी रुझान आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी से उनके आवास दस जनपथ पर जाकर मुलाकात की है। माना जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के बाद ही सोनिया गांधी ने बसपा सुप्रीमो मायावती से फोन पर बातचीत की है।

ऐसे में संभावनाएं बन रही हैं कि मध्य प्रदेश में बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए कांग्रेस बसपा और कुछ निर्दलीय विधायकों को मिलाकर सरकार बनाने की कोशिशे की जा सकती हैं।

वहीँ परदे के पीछे से बीजेपी ने भी मध्य प्रदेश में सरकार बनाने के लिए अपने दांव पेंच शुरू कर दिए हैं। सूत्रों के मुताबिक बीजेपी निर्दलीय विधायकों से सम्पर्क साधने में जुट गयी है।

फिलहाल देखना है कि दौर की मतगणना के बाद राज्य की क्या राजनैतिक तस्वीर उभर कर सामने आती है। ताज़ा रुझानों को देखा जाए तो बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है और दोनों ही पार्टियां बहुमत से दूर हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें