मंदी: मारुती सुजुकी ने 3000 कर्मचारियों को निकाला, हीरो का प्लांट 4 दिन के लिए बंद

नई दिल्ली। मंदी से जूझ रहे देश के ऑटोमोबाइल सेक्टर में काम कर रहे लोगों पर बेरोज़गारी की तलवार लटकी है। इस बीच देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुती सुजुकी इंडिया लिमिटेड ने अपने तीन हजार से अधिक अस्थायी कर्माचारियों को हटाने का एलान किया है।

दूसरी ओर देश की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन निर्माता कंपनी हीरो मोटोकॉर्प ने शुक्रवार को ऐलान किया कि वह 4 दिनों के लिए उत्पादन बंद कर रही है। ऑटोमोबाइल क्षेत्र में आई इस मंदी के दौरान कंपनी 15 अगस्त से 18 अगस्त के बीच कोई उत्पादन नहीं करेगी।

अभी पिछले कुछ महीनो में ही ऑटोमोबाइल सेक्टर में कार्यरत करीब तीन लाख से अधिक लोगो के बेरोज़गार होने की खबर है। वहीँ हाल ही में मारुति सुजुकी ने खपत घटने से आई सुस्ती के बाद 1 हजार अस्थायी कर्मचारियों की छंटनी की थी।

मारुति सुजुकी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने कहा, “वाहन उद्योग में नरमी को देखते हुए अस्थायी कर्मचारियों के अनुबंध को नया नहीं किया गया है जबकि स्थायी कर्मचारियों पर इसका प्रभाव नहीं पड़ा है।” उन्होंने आगे कहा, “यह कारोबार का हिस्सा है, जब मांग बढ़ती है तो अनुबंध पर ज्यादा कर्मचारियों की भर्ती की जाती है और जब मांग घटती है तो उनकी संख्या कम की जाती है।”

ऑटो सेक्टर के इस साल जुलाई माह के आंकड़े भी निराश करने वाले रहे। इस महीने में देश में वाहनों की बिक्री में दो सदी की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गयी। दिसंबर 2000 के बाद यह पहला मौका है, जब ऑटो सेक्टर की बिक्री में 31 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। इसके अलावा बीते करीब एक साल में इस सेक्टर से 13 लाख लोगों की नौकरियां गई हैं।

गौरतलब है कि ऑटोमोबाइल सेक्टर में आयी बड़ी मंदी के बाद गाड़ियों की बिक्री लगातार घट रही है। इस सेक्टर से जुडी कई कंपनियों के डीलर पॉइंट बंद होने के बाद ऑटोमोबाइल सेक्टर में लाखो लोग बेरोज़गार हो गए हैं। इतना ही नहीं वाहन निर्माता कंपनियों द्वारा प्रोडक्शन घटाए जाने के चलते ऑटो एसेसरीज की बिक्री में भी कमी दर्ज की गयी है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें