बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ: अध्यापक न होने के कारण हाईस्कूल की सभी छात्राएं फेल

हिसार। हरियाणा में तीन साल पहले पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा लिंगानुपात में समानता लाने और लड़कियों को शिक्षित बनाने के लिए शुरू किये गए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की राज्य में हवा निकल गयी है।

यहाँ हिसार के एक कन्या विद्यालय में शिक्षकों की कमी के चलते हाईस्कूल की परीक्षा में सभी छात्राएं फेल हो गयीं हैं। जानकारी के मुताबिक हिसार जिले के काबरेल गांव के राजकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय में पिछले शैक्षणिक सत्र के दौरान संस्कृत, हिंदी, विज्ञान एवं गणित का कोई शिक्षक ही नहीं था।

ऐसे हालातो में हाईस्कूल की छात्राओं को कोई यह बताने वाला भी नहीं था कि उन्हें कौन सी किताबें खरीदनी है और क्या पढ़ना है। इतना ही नहीं अन्य विषयो के भी शिक्षकों ने पढाई पर कोई ध्यान नहीं दिया और वे अधिकांशतः या तो अनुपस्थित रहते थे या विद्यालय में मौजूद होने के बावजूद कक्षाओं में नहीं जाते थे।

गाँव के सरपंच का आरोप है कि शिक्षको की गैरमौजूदगी के चलते छात्राएं फेल हुई हैं। यदि सभी विषयो के शिक्षक मौजूद रहते और छात्राओं को सही से पढ़ाते तो कोई कारण नहीं था कि सभी छात्राएं फेल हो जातीं।

उन्होंने कहा कि कन्या विद्यालय का जो हाल है उससे पता चलता है कि राज्य सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को कितनी गंभीरता से ले रही है। उन्होंने कहा कि सभी 24 छात्रों का फेल होना गाँव के लिए निराशा पैदा करने वाला है।

बता दें कि भिवानी के हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ने जब पिछले महीने नतीजे घोषित किये थे, तो इस स्कूल का प्रदर्शन बहुत खराब रहा था. स्कूल में पढ़ने वाली सभी 24 छात्राएं फेल हो गयीं.

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें