बुलंदशहर: इंस्पेक्टर को गोली मारने के आरोपी जीतू को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

मेरठ। बुलदंशहर में 3 दिसंबर को हुई हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह को गोली मारने के आरोपी जितेंद्र उर्फ़ जीतू फौजी को सेना द्वारा एसटीएफ के हवाले किये जाने के बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने जीतू को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

जीतू फौजी सोपोर में 22 राष्ट्रीय रायफल्स में तैनात था। जीतू फौजी को सेना द्वारा शनिवार रात 12:50 बजे एसटीएफ को सौंप दिया गया था। मेरठ में एसएसपी एसटीएफ अभिषेक सिंह ने कहा कि हमने सेना के जवान जितेंद्र मलिक को गिरफ्तार कर लिया है।

एसटीएफ की कस्टडी में आने के बाद जीतू फौजी को बुलंदशहर लाया गया था। उससे प्रारंभिक पूछताछ के बाद कोर्ट में पेश किया गया था जहाँ से कोर्ट ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

जानकारी के मुताबिक पुलिस पूछताछ में जीतू फौजी ने इंस्पेक्टर पर गोली चलाने से इंकार किया और खुद को निर्दोष बताया। बताया गया कि जीतू फौजी का मोबाईल फोन भी फोरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है।

इससे पहले इस मामले की जांच के लिए बनायीं गयी एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी। एसआईटी की रिपोर्ट के बाद शनिवार को एसएसपी, स्याना सीओ और चिंगरावठी चौकी प्रभारी को हटा दिया गया था। बुलंदशहर देहात के एएसपी रईस अख्तर को भी हटा दिया गया है, उनकी जगह मनीष मिश्र को चार्ज दिया गया है।

गौरतलब है कि 3 दिसंबर को बुलंदशहर में एक खेत में मांस के टुकड़े पाए जाने के बाद भड़की हिंसा में स्याना के पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की गोली लगने से मौत हो गयी थी।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...