बीजेपी में शामिल होना चाहते हैं मक्का मस्जिद ब्लास्ट में असीमानंद को बरी करने वाले जज

नई दिल्ली। मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में फैसला देने वाले जज ने बीजेपी में शामिल होने की इच्छा जताई है। पूर्व न्यायाधीश के. रविन्दर रेड्डी की आतंकवाद निरोधी अदालत ने इसी साल 16 अप्रैल को 400 साल पुरानी मक्का मस्जिद के परिसर में हुए विस्फोट मामले से हिंदुत्व के प्रचारक असीमानंद और चार अन्य को बरी किया था।

अब पूर्व न्यायाधीश रेड्डी ने बीजेपी को देशभक्त पार्टी करार देते हुए पार्टी ज्वाइन करने की इच्छा जताई है। हालाँकि अभी तक पार्टी की तरफ से इस मामले में कोई बयान नही आया है।

बीजेपी की तारीफ़ करते हुए पूर्व न्यायधीश रेड्डी ने पत्रकारों से कहा कि भाजपा में शामिल होने के उनके कार्यक्रम को फिलहाल रोका गया है और कोई कारण नहीं बताया गया है।

उन्होंने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और सिकंदराबाद के सांसद बंडारू दत्तात्रेय ने मेरा सम्मान किया और पार्टी में शामिल होने के लिए मुझे आमंत्रित किया। रेड्डी ने कहा कि मैंने पार्टी में इसलिए शामिल होने की इच्छा जताई कि मेरा मानना है कि यह देशहित में सोचने वाली पार्टी है।

उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रीय स्तर की यह एकमात्र देशभक्त पार्टी है और इसमें परिवार का शासन नहीं है।’ रेड्डी ने कहा कि हाल में जब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह नगर के दौरे पर थे तो उन्होंने उनसे मुलाकात की थी।

इस मामले में राज्य बीजेपी अध्यक्ष ने मीडिया को बताया कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के हालिया हैदराबाद दौरे के दौरान रेड्डी ने उनसे मुलाकात की थी लेकिन पार्टी अभी उनको लेकर कोई निर्णय नहीं लिया है कि उनकी सेवा लेनी या नहीं।

गौरतलब है कि तेलंगाना में विधानसभा भंग होने के बाद जल्द चुनाव होने के कयास लगाये जा रहे हैं और राज्य में अभी से चुनावी सरगर्मियां तेज हो गयी हैं।

पूर्व न्यायाधीश द्वारा बीजेपी ज्वाइन करने की इच्छा जताने पर आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल उठाये हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व जज को मक्का मस्जिद मामले में पसंदीदा फैसला देना का इनाम मिला रहा है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें