बीजेपी की ईवीएम हैकिंग के बारे में मुंडे को जानकारी थी, इसलिए हुई उनकी हत्या

नई दिल्ली। लंदन में चल रहे हैकथॉन कार्यक्रम में अमेरिकी साइबर एक्सपर्ट ने सनसनीखेज खुलासे में कहा कि बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे को 2014 के लोकसभा चुनाव में ईवीएम हैक किये जाने की जानकारी थी। इसलिए उनकी ह्त्या हुई।

साइबर एक्सपर्ट सैयद शुजा ने दावा किया कि गोपीनाथ मुंडे की सड़क हादसे में हुई मौत एक एक्सीडेंट नहीं था बल्कि उनकी ह्त्या की गयी थी। शुजा के मुताबिक 2014 के आम चुनाव में बीजेपी के लिए ईवीएम हैकिंग करने के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे ने उनकी टीम से संपर्क किया था।

गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनाव परिणाम आने के कुछ दिनों बाद ही महाराष्ट्र के बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे की सड़क हादसे में मौत हो गयी थी। सायबर एक्सपर्ट द्वारा मुंडे की मौत को हत्या बताये जाने से देश की राजनीति में तूफान खड़ा हो सकता है।

वहीँ अमेरिकी सायबर एक्सपर्ट सैयद शुजा द्वारा द्वारा ईवीएम हैकिंग को लेकर किये गए सनसनीखेज खुलासो के बाद कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि हमने लंदन की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बारे में देखा और सुना है। शनिवार को कोलकाता में सभी दलों ने ईवीएम का मुद्दा उठाया था।

सिंघवी ने कहा कि इस मामले में सभी चिंतित हैं और सभी चाहते हैं कि चुनाव पेपर बैलेट से हो। उन्होंने कहा कि सभी ईवीएम में वीवीपीएटी हो और कम से कम 50 फीसदी वीवीपीएटी पर्चियों की गिनती हो।

चुनाव आयोग ने ईवीएम हैकिंग की संभावनाओं से किया इंकार

अमेरिकी साइबर एक्सपर्ट के इस खुलासे पर चुनाव आयोग ने कहा है कि ईवीएम हैकिंग का दावा गलत है। चुनाव आयोग चुनाव में जिन ईवीएम का इस्तेमाल करता है, वह पूरी तरह से सुरक्षित है। मशीन तकनीकी विशेषज्ञों की निगरानी में ही तैयार होती है। लंदन में हैकिंग को लेकर आयोजित कार्यक्रम को चुनाव आयोग ने प्रायोजित करार दिया है।

चुनाव आयोग ने यह भी कहा है, ‘भारत में इस्तेमाल की जाने वाली ईवीएम भारत इलेक्ट्रॉनिक ऐंड कॉर्पोरेशल ऑफ इंडिया लिमिटेड की तरफ से बेहद कड़े सुपरविजन में बनाई जाती हैं। साल 2010 में गठित तकनीकी विशेषज्ञों की एक कमिटी की देखरेख में यह पूरा काम होता है। हम इस बात पर भी अलग से विचार करेंगे कि क्या इस मामले पर कोई कानूनी मदद ली जा सकती है?’

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें