चुनाव

बीजेपी का डर: तूफ़ान और बारिश से विकास का चेहरा न आ जाए सामने

नई दिल्ली। गुजरात में इस बार लगता है कुदरत भी बीजेपी के साथ नहीं है। गुजरात में कांग्रेस के ‘विकास पागल हो गया है’ कैंपेन से जैसे तैसे पीछा छुड़ाने वाली भारतीय जनता पार्टी की नई मुश्किल आज रात गुजरात पहुँच रहे ओखी साइक्लोन को लेकर है। जो एन चुनाव के समय आ रहा है।

तमिलनाडु और केरल में तबाही मचाने के बाद ओखी तूफान गुजरात की तरफ रुख कर चुका है। आज रात ओखी तूफान गुजरात के तट से टकराएगा, इसके मद्देनजर नौ जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

सूत्रों की माने तो तूफान की सूचना ही बीजेपी के लिए एक राजनैतिक कहर लेकर आयी है। ओखी तूफ़ान के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कल होने वली सूरत की जनसभा को स्थगित करना पड़ा है। वहीँ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की गुजरात के राजुला, महुवा, शिहोर में होने वाली रैलियां रद्द की गयी हैं।

इतना ही नहीं तूफान के चलते उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राजस्थान की सीएम वसुंधरा राजे सिंधिया की सभाएं भी रद्द की गयी हैं। हालाँकि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी और उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर की सभाएं भी स्थगित हुई हैं लेकिन सूत्र बताते हैं कि सभाएं स्थगित होने का अधिक मलाल बीजेपी को है।

सूत्रों ने कहा कि बीजेपी की दूसरी मुश्किल तूफान के साथ होने वाली तेज बारिश है, जिससे कई इलाको में जल भराव की संभावना है। सूत्रों ने कहा कि गुजरात के बीजेपी नेता मानते हैं कि चुनाव से चार दिन पहले भारी बारिश से हुए जल भराव से मतदाताओं पर नकारात्मक असर पड़ेगा।

सूत्रों ने कहा कि यदि एन चुनाव से पहले एक बार फिर “विकास पागल हो गया है” का जिन्न बाहर निकल आया तो इस बार वह ज़्यादा नुकसान करेगा क्यों कि चुनावो में सिर्फ एक दो दिन का ही समय रह जाएगा।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Facebook

Copyright © 2017 Lokbharat.in, Managed by Live Media Network

To Top