बिहार: उपचुनाव से नीतीश का किनारा, जदयू नहीं खड़े करेगा अपने उम्मीदवार

पटना। बिहार में लोकसभा की एक और विधानसभा की दो सीटों के लिए होने जा रहे उपचुनाव से जनता दल यूनाइटेड ने किनारा कर लिया है। उपचुनाव की तीनो सीटों पर नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड अपने उम्मीदवार खड़े नहीं करेगी।

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण ने इस बात का एलान किया. इस एलान से भाजपा समेत एनडीए के अन्य घटक दलों का रास्ता साफ हो गया है और इन तीनों सीटों पर अपनी उम्मीदवारी को लेकर वे निश्चिंत हो गये हैं।

जनता दल यूनाइटेड के इस उप चुनाव से दूर हटने से अब एनडीए में बीजेपी दो सीटों जबकि रालोसपा एक सीट पर अपने उम्मीदवार उतार सकती है लेकिन जीतनराम मांझी की पार्टी तीनो सीटों पर ही अपने उम्मीदवार खड़े कर सकती है।

वहीँ उपचुनाव को लेकर राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस के बीच भी बातचीत चल रही है। अररिया सीट पर 2014 में राष्ट्रीय जनता दल उम्मीदवार विजयी हुए थे। इसलिए अररिया लोकसभा सीट पर राजद का उम्मीदवार ही चुनाव लड़ेगा ये तय माना जा रहा है।

दूसरी तरफ उपचुनाव को लेकर महागठबंधन की सहयोगी कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा है कि अररिया और जहानाबाद सीट राजद ले ले, लेकिन हम भभुआ सीट पर अपना उम्मीदवार उतारेंगे।

जानकारों की माने तो उपचुनाव में जनता दल यूनाइटेड द्वारा उम्मीदवार खड़ा न करने के पीछे दो अहम वजह बताई जा रही हैं। पहली वजह बीजेपी और जनता दल यूनाइटेड के बीच पैदा हुई दरार है।

वहीँ यह भी माना जा रहा है कि यदि नीतीश कुमार ने अपने उम्मीदवार खड़े किये और उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा तो यह उनकी सरकार के कामकाज के आंकलन से जोड़ा जा सकता है।
.

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें