फिटनेस चेलेंज पर बोले दिग्विजय “मेरे साथ नर्मदा परिक्रमा करके दिखाएँ पीएम मोदी’

झाबुआ। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर बीजेपी और आरएसएस को कटघरे में खड़ा किया है। झाबुआ के सर्किट हॉउस में पत्रकारों से बात करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कोई संगठन नहीं है, उसका कहीं कोई पंजीकरण नहीं है।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि मैं आज भी अपनी बात पर कायम हूँ। यदि आरएसएस एक संगठन है तो उसका पंजीकरण कब और कहाँ हुआ। अगर आरएसएस रजिस्टर्ड संगठन है तो उसका पंजीकरण दिखाए।

अमेरिकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए द्वारा विहिप और बजरंगदल को उग्र संगठन और आरएसएस को राष्ट्रवादी संगठन बताये जाने पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि महात्मा गांधी का हत्यारा नाथूराम गोडसे आरएसएस का सदस्य था। उन्होंने कहा कि यह भी सच है कि किसी भी आतंकी घटना में अगर हिंदू व्यक्ति पकड़े गए हैं तो वो कभी न कभी संघ के कार्यकर्ता रहे हैं।

बीजेपी पर निशाना साधते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि यदि बीजेपी चुनाव हार रही होती है तो दंगे करवाती है। मध्य प्रदेश के शाजापुर में शनिवार को हुए उपद्रव को लेकर कहा, शाजापुर ऐसी जगह है, जहां हर साल महाराणा प्रताप जयंती पर मुसलमान कई जगह स्वागत करते हैं।

उन्होंने कहा कि शनिवार को भी तीन जगह स्वागत हुए, लेकिन एक जगह तनाव शुरू हो गया। भाजपा को जब लगता है कि वह चुनाव नहीं जीत पाएगी तो वो हिंदू-मुस्लिम दंगे कराती है। यह उसकी शुरुआत है।

पीएम मोदी के फिटनेस चेलेंज को लेकर दिग्विजय सिंह ने कहा कि “देश में बेरोजगारी है, अर्थव्यवस्था बिगड़ रही है, नोटबंदी विफल रही है, जीएसटी से व्यापारी परेशान हैं और उनको फिटनेस चैलेंज लगा हुआ है।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि “मैं कहता हूं, आओ और नर्मदा परिक्रमा मेरे साथ करके दिखाओ। चुनाव में मुख्यमंत्री के चेहरे के सवाल पर उन्होंने कहा कि संसदीय प्रणाली में चेहरे तय नहीं होते। ये राष्ट्रपति शासन में होता है। चुने गए विधायकों और सांसदों का अधिकार है कि वो अपना नेता चुने। इसलिए चेहरे का सवाल नहीं होता।”

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें