पढ़िए, कौन हैं गोपाल कृष्ण गाँधी

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष द्वारा उम्मीदवार बनाये गए गोपाल कृष्ण गांधी राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के पोते हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवाओं में अपना योगदान देने के साथ साथ गोपाल कृष्ण गाँधी ने कई अन्य विशिष्ट पदों पर काम करने का अनुभव रखते हैं।

गोपाल कृष्ण गांधी का जन्म 22 अप्रैल 1945 को हुआ था। उनके पिता का नाम देवदास गांधी और मां का नाम लक्ष्मी था। गोपाल कृष्ण गांधी ने सेंट स्टीफेंस कॉलेज से इंग्लिश लिट्रेचर में मास्टर्स की पढ़ाई की। वहीं गोपाल कृष्ण गांधी कई पदों पर भी रह चुके हैं। 1

1968 से 1992 तक वह भारतीय प्रशासनिक सेवा में रहे। 1985 से 1987 तक वह उप-राष्ट्रपति के सचिव पद पर भी रहे। इसके बाद साल 1987 से 1992 तक वह राष्ट्रपति के संयुक्त सचिव भी रहे और 1997 में राष्ट्रपति के सचिव भी बने।

इसके अलावा गोपाल कृष्ण गांधी यूनिइडेट किंगडम में भारतीय उच्चायुक्त में सांस्कृतिक मंत्री के पद का दायित्व भी संभाल चुके हैं। साथ ही लंदन में नेहरु सेंटर के डायरेक्टर भी वह रह चुके हैं। गांधी ने लिसोटो में भी भारतीय उच्चायुक्त का पदभार भी संभाला था।

गोपाल कृष्ण गांधी, साल 2000 में श्रीलंका में भारतीय उच्चायुक्त, 2002 में नॉर्वे में भारतीय राजदूत और आइसलैंड में भी बतौर भारतीय राजदूत अपनी सेवाएं दे चुके हैं। वहीं 2004 से 2009 तक वह पश्चिम बंगाल के गवर्नर भी रह चुके हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें