पढ़िए: अशोक गहलोत ने क्यों कहा ‘यदि पटेल ज़िंदा होते तो जेल में होते मोदी और शाह’

नई दिल्ली। राजस्थान विधानसभा चुनावो के लिए चल रहे अंतिम दौर के प्रचार में कांग्रेस और बीजेपी के बीच छिड़ी तीखी ज़ुबानी जंग के बीच कांग्रेस के प्रभारी महासचिव और राजस्थान के पूर्व सीएम अशोक गहलोत ने दावा किया कि यदि आज सरदार पटेल ज़िंदा होते तो पीएम नरेंद्र मोदी और शाह जेल में होते।

अशोक गहलोत ने कहा कि मोदी और अमित शाह की जैसी हरकतें हैं और जिस तरह की भाषा बोल रहे हैं, उससे दोनों नेता जेल में चक्की पीस रहे होते। हालाँकि अशोक गहलोत ने पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को लेकर या बड़ा दावा उनके भाषणों में कांग्रेस को लेकर किये जा रहे हमलो पर किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जयपुर में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी पर उनका नाम लिए बिना निशाना साधा। पीएम मोदी ने विधवा पेंशन में गड़वड़झाला को कुछ इस तरह पेश किया जिसे शायद ही कोई गैर बीजेपी दल का व्यक्ति स्वीकार कर सके।

पीएम नरेंद्र मोदी ने विधवा पेंशन में फ़र्ज़ी नाम पाए जाने को लेकर कहा कि “आखिर कांग्रेस की वह कौन सी विधवा थी जिसके पास पैसे पहुंचते थे।” पीएम मोदी के इन शब्दों में बजन कम उपहास ज़्यादा था।

कांग्रेस नेता अशोक गहलोत ने पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह द्वारा अपने चुनावी भाषण में कांग्रेस नेताओं के लिए इस्तेमाल की जा रही भाषा को लेकर सवाल उठाये। गहलोत ने कहा कि जानबूझकर राहुल गांधी के धर्म और गोत्र जैसे मुद्दे उठाए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी किस मंदिर में जाते हैं और मोदी किस दरगाह में नहीं जाते हैं, यह चुनावी मुद्दा नहीं होना चाहिए। जहां तक गोत्र की बात है 1921 से पुष्कर के पंडों के पास रिकॉर्ड है कि गांधी परिवार यहां आता रहा है।

वहीँ गौर करने लायक बात यह है कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनावो के दौरान प्रचार से मुद्दे प्रायः नदारद रहे हैं। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में मतदान हो चूका है। अब राजस्थान और तेलंगाना में मतदान शेष है।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान जहाँ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल डील, नोट बंदी और किसानो की कर्जमाफी की बात दोहराते रहे वहीँ बीजेपी की तरफ से पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी मुद्दों और उपलब्धियों से दूर भागते नज़र आये।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें