प्रो जीडी अग्रवाल की मौत पर घिरी सरकार, गुरु ने उठाये ये सवाल

नई दिल्ली। प्रो जीडी अग्रवाल उर्फ़ स्वामी सानंद की मौत को लेकर उनके गुरु स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद का दावा है कि प्रो जीडी अग्रवाल की साजिश के तहत हत्या की गई है।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद का दावा है कि प्रशासन द्वारा स्वामी सानंद को उठाए जाने से पहले उन्होंने उनके लिखे खत का जवाब खुद लिखकर भेजा था। जिसमें उन्होंने खुद को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ बताया था। उन्होंने सिर्फ पोटैशियम कम होने की बात कही थी।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद का कहना है कि यदि नितिन गडकरी ने उनकी सुनी होती तो ऐसी घटना क्यों घटती। उनकी बात मानने की बात तो दूर वे उन्हें देखने तक नहीं गए।

वहीँ स्वामी शिवानंद ने कहा कि प्रोफेसर जीडी अग्रवाल की मौत को मातृ सदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने सरकार के इशारे पर की गई हत्या है।

पत्रकारों से बात करते हुए शिवानंद ने आरोप लगाया कि प्रो जीडी अग्रवाल की मौत के लिए हरिद्वार जिला प्रशासन, एम्स के डायरेक्टर और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी जिम्मेदार हैं। उन्होंने इन सभी जिम्मेदार लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने और उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यह बताना चाहिए कि मां गंगा ने उन्हें क्या इसीलिए बुलाया था कि वे गंगा भक्तों का बलिदान लेते रहें। स्वामी सानंद को बुधवार दोपहर जब प्रशासन ने जबरन उठाकर एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया तो वह पूरी तरह ठीक थे। फिर आखिर ऐसी क्या बात हुई कि अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई और उनकी मौत भी हो गई।

स्वामी शिवानंद ने कहा कि उन्होंने तो पहले ही आशंका जताई थी कि स्वामी सानंद की हत्या के लिए ही उन्हें यहां से उठाकर एम्स ले जाया जा रहा है। एम्स में उनका जीवन वैसे भी सुरक्षित नहीं रहना था।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें