प्रियंका के राजनीति में आने के बाद क्या है पूर्वी उत्तर प्रदेश का गणित

नई दिल्ली ।प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने के बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति में बड़ा उतार चढ़ाव होने की संभावना जताई जा रही है ।

चूंकि प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तर प्रदेश का  प्रभारी बनाया गया है  इसलिए पूर्वी उत्तर  प्रदेश का राजनैतिक गणित बड़ी तेजी से बदलने के कयास लगाए जा रहे हैं।

पूर्वी उत्तर प्रदेश की बात करें तो इस क्षेत्र में 21 जिले हैं, जिनमें लोकसभा की 26 और विधानसभा की 130 सीटें हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश खासकर भोजपुरी भाषी बेल्ट है।

इस क्षेत्र की अहमियत इसी बात से समझी जा सकती है, अभी तक पांच प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री, वीपी सिंह, चंद्रशेखर और नरेंद्र मोदी पूर्वी उत्तर प्रदेश से ही आए हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश में गोरखपुर, वाराणसी और आजमगढ़ जैसी सीटें आती है।

जानकारों की माने तो प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने से जहां कांग्रेस को देधभर में फायदा होगा वहीं पूर्वी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस बड़ा करिश्मा कर सपा बसपा गठबंधन से बाहर रखे जाने का माकूल जबाव दे सकती है ।

 

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें