पुलवामा हमला: शरद पवार ने पीएम मोदी को याद दिलाया उनका ये बयान

मुंबई। पुलवामा हमले के बाद जहाँ आज देशभर में पाक विरोधी प्रदर्शन हुए वहीँ अब राजनैतिक दलों की प्रतिक्रियाएं भी सामने आना शुरू हो गयीं हैं।

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने जहाँ सर्वदलीय बैठक में पारित प्रस्ताव में शान्ति के प्रयास शामिल न होने पर नाराज़गी जताई है वहीँ एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने पीएम नरेंद्र मोदी को उनका 2014 का एक बयान याद दिलाया है।

शरद पवार ने कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के समय हुए इस तरह के कुछ हमलों के बाद दिए गए बयानों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल पूछे हैं।

महाराष्ट्र के बारामती में संवाददाताओं से बातचीत में पवार ने जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले को देश पर हमला बताया। पवार ने कहा, ‘मुझे याद आता है कि सत्ता में आने से पहले प्रधानमंत्री मोदी अपनी चुनावी रैलियों में कहते थे कि मनमोहन सिंह सरकार पाकिस्तान को सबक सिखाने में नाकाम रही है। वह कहते थे कि मनमोहन सिंह सरकार में सबक सिखाने की क्षमता नहीं है।’

उन्होंने कहा कि मोदी अपनी रैलियों में जनता का आह्वान करते थे कि यूपीए सरकार की जगह बीजेपी को लाएं तो ऐसे आतंकी हमलों के लिए पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सकता है। पवार ने कहा, ‘अब सभी ने देख लिया कि क्या हुआ. लेकिन आज मैं वो मांग नहीं दोहराऊंगा जो मोदी ने उस समय उठाई थी।’

शरद पवार ने कहा कि मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले अपनी जो छवि बनाई थी, वह अब शत प्रतिशत विफल हो गई है। पवार ने यह भी कहा कि पुलवामा हमले की तीव्रता और इसमें इस्तेमाल विस्फोटकों को देखने के बाद इसमें पाकिस्तान के सरकारी तत्वों के शामिल होने की बात खारिज नहीं की जा सकती।

गौरतलब है कि पुलवामा हमले के बाद विपक्ष ने बेहद संयम दिखाते हुए मोदी सरकार के काम करने के तरीके पर कोई टिपण्णी नहीं की बल्कि कांग्रेस ने साफतौर पर कहा कि वह शोक की इस घड़ी में सरकार के सरकार और देश की जनता के साथ खड़ी है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...