पीएम नहीं सीएम बनना चाहते हैं अखिलेश, गठबंधन में बसपा-कांग्रेस के साथ जाने के दिए संकेत

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने साफ़ किया है कि फिलहाल उनका लक्ष्य प्रधानमंत्री बनना नहीं है और वे मुख्यमंत्री ही बनना चाहते हैं। लखनऊ में एक न्यूज़ चैनल से बातचीत में अखिलेश यादव ने भविष्य की राजनीति को लेकर खुलकर बात की।

बातचीत के दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि “मैं इतना बड़ा सपना नहीं देखता कि देश का प्रधानमंत्री बन जाऊं। मुझे देश का प्रधानमंत्री नहीं बनना है, मुझे तो सिर्फ एक बार फिर उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री ही बनना है और प्रदेश के विकास कार्यो को आगे बढ़ाना है।”

अखिलेश ने कहा कि वह चाहते हैं कि देश का अगला प्रधानमंत्री भी उत्तर प्रदेश से हो। उन्होंने कहा कि वह खुद एक बार फिर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनकर विकास कार्यो को आगे बढ़ाना चाहते हैं।

उन्होंने आगे कहा, “अभी तक तो यही होता आया है कि यूपी से ही कोई प्रधानमंत्री बनता आया है, हम यही चाहते हैं कि कोई नया प्रधानमंत्री बने और यूपी से ही बने. देश की पसंद हमारी पसंद बन जाएगी और देश को क्या मिला देश इसका आकलन करेगा।”

राहुल गांधी का जिक्र किए जाने पर अखिलेश ने कहा, “सपना देखना बुरी बात नहीं है, लेकिन कांग्रेस को इसके लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। हम साथ हैं, लोकसभा चुनाव में भी साथ रहेंगे, कई और भी पार्टियां साथ आएंगी।” मायावती से गठबंधन के सवाल पर सपा अध्यक्ष ने साफ कहा कि समाजवादी पार्टी 2019 का लोकसभा चुनाव बसपा के साथ मिलकर लड़ेगी।

उन्होंने कहा, “इस समझौते के लिए हमें कोई कुर्बानी देनी पड़ी तो हम पीछे नहीं हटेंगे। हालांकि सीटों के बंटवारे को लेकर मैं इस समय कुछ नहीं बोलूंगा। हम मध्य प्रदेश में भी विधानसभा चुनाव लड़ने जा रहे हैं।”

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें