पाकिस्तान: पुलवामा हमले के बाद इमरान खान ने इन संगठनों पर लगायी पाबंदी

इस्लामाबाद(एजेंसी)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के मध्य तनाव के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) की एक महत्वपूर्ण बैठक की बृहस्पतिवार को अध्यक्षता की। जिसमें देश की सुरक्षा स्थिति पर चर्चा की गयी। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 सैनिक शहीद हो गये थे।

बैठक में हाफिज सईद के आतंकी संगठन जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत पर प्रतिबंध लगाने का भी निर्णय लिया गया। इमरान खान ने पुलवामा हमले में पाकिस्तान के हाथ होने से साफ इनकार करते हुए कहा कि यह पाकिस्तान को बदनाम करने की भारत की साजिश है। अगर भारत इस हमले में पाकिस्तान के हाथ होने का सबूत देता है तो उस पर निश्चित रूप से कार्रवाई की जायेगी।

जियो टीवी ने सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया कि एनएससी की बैठक से पहले प्रधानमंत्री खान और सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने बैठक की जिसमें उन्होंने क्षेत्र की सुरक्षा स्थिति पर विचार-विमर्श किया।

सूत्रों के हवाले से चैनल ने बताया कि इसके बाद एनएससी बैठक के दौरान पुलवामा हमले और इसके बाद उपजी स्थिति पर चर्चा की गयी। इस बैठक में सेना प्रमुख जनरल बाजवा, सेवाओं के प्रमुख, खुफिया एजेंसियों के प्रमुखों, सुरक्षा अधिकारियों और वित्त, रक्षा, विदेश मामलों तथा गृह विभाग के लिए संघीय तथा राज्य मंत्रियों ने भाग लिया।

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में गत 14 फरवरी को पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से लदे एक वाहन को सीआरपीएफ की एक बस से टकरा दिया था। जिससे 40 जवान शहीद हो गये थे. विदेश कार्यालय के अधिकारियों ने एनएससी परिषद को अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत में कुलभूषण जाधव के मामले की सुनवाई के बारे में बताया।

बैठक में प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तानी सेना को भारत द्वारा किसी भी आक्रामकता या दुस्साहस का निर्णायक और व्यापक रूप से जवाब देने का निर्देश दिया. बैठक में कहा गया कि उक्त घटना में पाकिस्तान किसी भी तरह से शामिल नहीं है।

बैठक में कहा गया कि पाकिस्तान ने ईमानदारी से घटना की जांच के साथ-साथ अन्य विवादित मुद्दों के बीच आतंकवाद के मुद्दे पर भारत से बातचीत की पेशकश की है. बयान में कहा गया है, हम उम्मीद करते हैं कि भारत प्रस्तावों पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देगा। जांच या उपलब्ध कराये गये किसी ठोस सबूत के आधार पर पाकिस्तान की धरती का उपयोग करनेवाले के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

बैठक में इमरान ने कहा कि यह एक नया पाकिस्तान है और हम अपने लोगों को यह दिखाने के लिए दृढ़ हैं कि हम उनकी रक्षा करने में सक्षम हैं। खान ने कहा, यह अकेले प्रतिबद्धता के साथ नहीं आयेगा. हम मानते हैं कि आतंकवाद और अतिवाद क्षेत्र में शीर्ष मुद्दे हैं और पाकिस्तान सहित पूरे क्षेत्र को नुकसान उठाना पड़ा है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें