पद की मर्यादा भूले गवर्नर, कहा “हम बीजेपी कार्यकर्ता”

नई दिल्ली। राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह अपने पद की गरिमा उस समय भूल गए जब उन्होंने कहा कि “कि नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री बनना देश के लिए काफी जरूरी है, हम सभी बीजेपी के कार्यकर्ता हैं और चाहते हैं कि बीजेपी बड़ी जीत हासिल करे।”

जानकारों की माने तो कल्याण सिंह राजस्थान के राज्यपाल हैं, ऐसे में साफ है कि वह एक संवैधानिक पद पर तैनात हैं। भारतीय संविधान के तहत संवैधानिक पद पर बैठा कोई भी व्यक्ति किसी भी एक राजनीतिक दल का समर्थन नहीं कर सकता है, उसे हमेशा निष्पक्ष ही रहना होगा।

कल्याण सिंह का बयान तूल पकड़ सकता है। संवैधानिक पद पर रहते हुये खुद को बीजेपी कार्यकर्ताओं में शामिल करना, संवैधानिक पद की मर्यादा का खुला उल्लंघन है।

इससे पहले हाल ही में अलीगढ लोकसभा सीट पर बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर सतीश गौतम को टिकिट मिलने के बाद भी कल्याण सिंह ने कुछ इसी तरह का बयान दिया था जैसे वे आज भी बीजेपी के पदाधिकारी हों।

कल्याण सिंह ने कहा था कि पार्टी ने एक ऐसे व्यक्ति को टिकट दिया है, जो कभी अतरौली गया ही नहीं है। कल्याण सिंह बीजेपी सांसद सतीश गौतम को फिर से टिकिट मिलने पर नाराज़गी ज़ाहिर कर रहे थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें