नोटबंदी के दो वर्ष: कांग्रेस का प्रदर्शन, मोदी सरकार से पूछे 8 सवाल

नई दिल्ली। मोदी सरकार द्वारा 8 नवंबर 2016 को देशभर में लागू की गयी पांच सौ और एक हज़ार के नोट की नोटबंदी को कांग्रेस ने अब तक का सबसे बड़ा घोटाला करार दिया है।

नोटबंदी को लेकर कांग्रेस ने आज देशभर में प्रदर्शन किया। दिल्ली में कांग्रेस ने रिज़र्व बैंक मुख्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में पार्टी के संगठन महासचिव अशोक गहलोत, वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा, मुकुल वासनिक, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव, भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष केशव चंद यादव और पार्टी के राष्ट्रीय सचिव मनीष चतरथ एवं नसीब सिंह तथा पार्टी के कई कार्यकर्ता शामिल हुए।

आरबीआई दफ्तर की तरफ बढ़ रहे कांग्रेस नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया और संसद मार्ग थाने ले गई। हिरासत में लिए जाने को मोदी सरकार का ‘तानशाही’ वाला कदम करार देते हुए गहलोत ने कहा कि नोटबंदी से देश के गरीबों और छोटे कारोबारियों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। कांग्रेस ने गुरूवार को नोटबंदी के दो साल पूरा होने के मौके पर घोषणा की थी कि पार्टी नोटबंदी के खिलाफ राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन करेगी।

वहीँ कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए नोट बंदी को लेकर 8 सवाल पूछे हैं।

1-सारा ‘कालाधान’ कहां गया?

2-फर्जी नोट कहां गए? क्या यह भी भाजपाई ‘जुमला’ निकला?

3-क्या उग्रवाद व नक्सवाद खत्म हो गया?

4-क्या नए नोट छापने व बांटने की कीमत नोटबंदी की बचत से 300 प्रतिशत अधिक है?

5-क्या देश में पूर्णतया डिजिटल भुगतान लागू हो गया?

6-क्या नोटबंदी ने रोजी रोटी पर प्रहार नहीं किया?

7-क्या नोटबंदी ‘कालाधन सफेद बनाने’ का एक बड़ा घोटाला था?

8-क्या भाजपा नेताओं की जांच हुई?

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें