नीतीश ने पूछा लालू का हाल तो गर्म हुआ अटकलों का बाजार

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा मुंबई में इलाज करा रहे राजद सुप्रीमो लालू यादव का फोन पर हाल चाल पूछे जाने के बाद अटकलों और कयासों का दौर शुरू हो गया है।

हालांकि लालू के बटे और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा है कि नीतीश कुमार के लिए महागठबंधन के दरवाजे हमेशा के लिए बंद हो गए हैं। लेकिन राजनीति तो राजनीति है यहां लंबे समय तक ना कोई दुश्मन होता है ना ही दोस्त..।

वहीँ सूत्रों की माने तो सीएम नीतीश कुमार क्या सियासी तौर पर अलग-थलग पड़ गए हैं?.. कम से कम हाल-फिलहाल का घटनाक्रम तो यही दिखा रहा है। राजद से पहले ही वे रिश्ते-नाते तोड़ चुके हैं। अब भाजपा से भी उनकी नाराजगी दबी जुबान बाहर निकल रही है।

पिछले कुछ दिनों से नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जदयू के हाव-भाव एनडीए-भाजपा को लेकर बदले-बदले दिखाई दे रहे हैं। मुख्यमंत्री के एक के बाद असहज कर देने वाले बयान भी सामने आ रहे हैं।

ऐसे में नीतीश द्वारा लालू के हाल-चाल लेने को लोग सियासी निगाह से भी देख रहे हैं। पिछले दिनों जदयू ने भाजपा पर दबाब बनाते हुए बिहार में नीतीश कुमार के चेहरे की बात की तो भाजपा नेताओं ने इसे कोई खासा भाव नहीं दिया।

भाजपा विधायक नितीन नवीन ने तो यहां तक कह दिया कि पहले जदयू को अपने आप को आईने में देखना चाहिये। 2014 में जदयू ने कितनी सीटें जीती थीं ये उन्हें अच्छे से पता है। ऐसे में नीतीश कुमार का सियासी सफर किस ओर जाता है इस पर सबकी दिलचस्पी बनी हुई है।

सूत्रों के मुताबिक महागठबंधन से नाता तोड़कर एनडीए के साथ सरकार बनाने वाले नीतीश अब भाजपा से भी खफा नजर आ रहे हैं और किसी भी क्षण कोई बड़ा निर्णय ले सकते हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें