नागरिकता बिल: भूपेन हजारिका के परिजनो का भारत रत्न अवार्ड वापस करने का एलान

नई दिल्ली। नागरिकता (संशोधन) बिल के विरोध में भूपेन हज़ारिका के परिवार ने भारत रत्न अवार्ड वापस करने का एलान किया है। मोदी सरकार ने 25 जनवरी को ही भूपेन हजारिका को देश के सबसे बड़े पुरस्कार भारत रत्न दिए जाने का ऐलान किया था।

गौरतलब है कि नागरिकता(संशोधन) विधेयक को लेकर असम में पिछले कई दिनों से प्रदर्शन जारी हैं। हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी के दो दिन के पूर्वोत्तर दौरे के दौरान भी नागरिकता (संशोधन) विधेयक का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने अपना विरोध जारी रखते हुए पीएम मोदी के काफिले को दो बार काले झंडे दिखाए थे।

भूपेन हज़ारिका के परिवार द्वारा भारत रत्न वापस करने के पीछे अहम कारण नागरिकता(संशोधन) विधेयक को बताया गया है। हालाँकि कुछ मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया जा रहा है कि भारत रत्न अवार्ड वापस करने को लेकर परिजनों की एक राय नहीं है।

इससे पहले भूपेन हज़ारिका को 1975 में सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार, संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार (1987), पद्मश्री (1977), और पद्मभूषण (2001) से सम्मानित किया गया था।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें