नसीरुद्दीन शाह ने मॉब लिंचिंग के शिकार लोगों के परिजनों से कही ये बात

मुंबई। कई मुद्दों पर आलोचनाओं की परवाह किये बिना अपनी राय रखने वाले फिल्म अभिनेता नसीरूद्दीन ने मॉब लिंचिंग को लेकर बड़ा बयान दिया है। शाह ने कहा कि मॉब लिंचिंग में मारे गए लोगों के परिजनों के साथ उनकी सहानुभूति हमेशा रहेगी।

मुंबई के दादर में ‘घृणा अपराधों में राज्य की सहभागिता’ को लेकर आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन में नसीरुद्दीन शाह ने मॉब लिंचिंग को लेकर कहा कि इस तरह की घटनाओं का खामियाजा पीड़ित और उसके परिजनों को भुगतना पड़ता है। ये सम्मेलन ‘डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया’ ने आयोजित किया था।

नसीरुद्दीन शाह ने इस कार्यक्रम में शामिल हुए मॉब लिंचिंग में मारे गए लोगों के परिजनों से भी बात की। इस मुलाकात में नसीरुद्दीन शाह ने परिजनों को दिलासा दी।

नसीरुद्दीन शाह ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि ‘मैं पीड़ितों के परिवार से मिलकर गर्व महसूस कर रहा हूं और मैं इनके साहस को सलाम करता हूं। ये अपनी जिंदगी में हम लोगों से ज्यादा परेशानियों का सामना करते हैं। हम अपनी जिंदगी में इसका 2 प्रतिशत भी नहीं झेलते।

नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि पिछले दिनों उनको भी उनके कुछ कमेंट को लेकर काफी आलोचना का सामना करना पड़ा है। उन्होंने कहा कि ‘कुछ लोगों ने मुझे गद्दार कहा, कुछ लोगों ने कहा कि मुझे पाकिस्तान चले जाना चाहिए लेकिन ये ताने मॉब द्वारा मारे गए लोगों की तुलना में कुछ भी नहीं है।’ नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि ‘मेरी सहानुभूति और साथ इन लोगों के हमेशा रहेगी।

गौरतलब है कि नसीरुद्दीन शाह ने कुछ समय पहले देश में बढ़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर टिप्पणी की थी, जिसे लेकर उनकी काफी आलोचना भी की गई थी। उन्होंने बुलंदशहर में मॉब लिंचिंग में पुलिसकर्मी की मौत पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि पुलिसकर्मी की हत्या से ज्यादा तवज्जो गाय की मौत को दी गई। उन्होंने कहा था कि वे बच्चों के लिए चिंतित हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें