नमाज़ पर पाबंदी के बाद सार्वजनिक पार्को में संघ की शाखाएं लगाने पर उठी पाबंदी की मांग

नई दिल्ली। नोएडा में सार्वजनिक पार्को में जुमे की नमाज़ रोकने के पुलिस के आदेश के बाद अब सार्वजनिक पार्को में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) की शाखाएँ आयोजित किये जाने पर पाबन्दी लगाए जाने की मांग उठी है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रचार विभाग ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर की सहमति से उत्तर प्रदेश पुलिस के डीजीपी को पत्र लिखकर यह मांग की है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के विचार विभाग के चेयरमैन संपूर्णानंद की तरफ से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि पूरे प्रदेश के सभी सरकारी या गैर सरकारी संस्थानों या शिक्षण संस्थानों के परिसर या परिसर के सामने के पार्कों में बिना अनुमति के संघ की शाखाएं चलाई जा रही हैं, उन्होंने इन शाखाओं पर रोक लगाने की मांग की है।

पत्र में कहा गया है कि आज पूरे प्रदेश में सरकारी या गैर सरकारी संस्थाओं या शैक्षणिक संस्थाओं के परिसर में या परिसर के सामने सार्वजनिक पार्को में बिना अनुमति संघ की शाखाएं आयोजित की जा रही हैं और इन शाखाओं में सामाजिक विघटन के विचार प्रवाहित किये जा रहे हैं।

पत्र में नोएडा पुलिस के पार्को में नमाज़ न पढ़ने के हाल के आदेश पर सवाल उठाते हुए कहा गया है कि जनपद गौतमबुद्ध नगर पुलिस द्वारा जनपद के सभी सरकारी और गैरसरकारी संस्थानों को एक धर्म विशेष द्वारा परिसर के अंदर या परिसर के बाहर सार्वजनिक पार्को में नमाज़ पढ़ने पर प्रतिबंध किये जाने का निर्देश जारी किया गया है जबकि निर्देश स्पष्ट होना चाहिए कि किसी भी समुदाय के धार्मिक एवं राजनितिक गतिविधियां प्रशासन की अनुमति के बिना नहीं हो सकतीं।

गौरतलब है कि नोएडा के सेक्टर 58 की औधोगिक इकाइयों में काम करने वाले मुस्लिम कर्मचारी मस्जिदें दूर होने के चलते जुमे के दिन सार्वजनिक पार्को में जुमे की नमाज़ अदा करते थे। पुलिस ने आदेश जारी कर खुले में नमाज़ पढ़ने पर पाबन्दी लगा दी है।

पुलिस के निर्देशों के साथ ही आज सेक्टर 58 की औधोगिक इकाइयों में काम करने वाले मुसलिम कर्मचारियों को जुमे की नमाज़ अदा करने के लिए काफी मशक्क्त करनी पड़ी। मुस्लिम कर्मचारियों को अपने कार्यस्थल से कई कई किलोमीटर दूर जाकर नमाज़ अदा करनी पड़ी। वहीँ नमाज़ अदा न हो पाने के अंदेशे के कारण बड़ी तादाद में मुस्लिम कर्मचारी अवकाश पर भी रहे।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...