देश की राजधानी हुई शर्मसार, तीन बच्चियों की भूख से मौत

नई दिल्ली। देश के जिस शहर में देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और राज्य के मुख्यमंत्री रहते हों, उस शहर में भी किसी की भूख से मौत हो जाए तो निश्चित ही ये सिस्टम के नाम पर बड़ा तमाचा है।

देश की राजधानी जहाँ देश की संसद में बैठकर जनप्रतिनिधि कानून बनांते हो उस शहर में तीन बच्चियों की भूख से मौत का सनसनीखेज मामला सामने आया है। मामला दिल्ली के मंडावली इलाके का है। जब एक मां अपनी तीन मासूमो को बेहोशी की हालत में लेकर अस्पताल पहुंची तो डॉक्टरों ने तीनो बच्चियों को मृत घोषित कर दिया।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि तीनो बच्चियों की मौत भूख से हुई। रिपोर्ट के मुताबिक तीनो बच्चियां कई दिनों से भूखी थीं। इससे पहले तीनो बच्चियों की संदिग्ध मानते हुए किसी ने दिल्ली पुलिस को सूचना दी थी।

मौके पर पहुंची पुलिस तीनो बच्चियों के शव लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। तीनो बच्चियों की उम्र आठ साल, चार साल और दो साल बतायी जाती है। बच्चियों के पिता की तलाश की जा रही है।

पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त पंकज कुमार सिंह ने मीडिया को बताया कि बच्चियों का पिता मंगलवार सुबह काम ढूंढने जाने की बात कर निकला था, जो देर रात तक नहीं लौटा है।

पूर्वी जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मुताबिक मूलरूप से पश्चिम बंगाल की रहने वाली शिखा, मानसी और पारुल परिवार के साथ मंडावली गांव स्थित इकबाल का गैराज मदरसे वाली गली में रहती थीं।

जानकारी के मुताबिक बच्चियों का पिता मंगल रिक्शा चलाता था। मंगलवार को वह काम तलाश करने का कहकर घर से गया था लेकिन वापस नहीं लौटा। इस बीच बच्चियों के बेहोश होने के बाद मां वीना अपनी बच्चियों को रिक्शा से लेकर लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल पहुंची।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें