दिल्ली में एक बार फिर शीला दीक्षित को मिली कांग्रेस की कमान

नई दिल्ली। कांग्रेस ने दिल्ली में एक बार फिर पूर्व सीएम शीला दीक्षित पर भरोसा जताते हुए उन्हें पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष न्युक्त किया है। 80 वर्ष की शीला दीक्षित बेहद अनुभवी मानी जाती है। वे 1998 से 2013 तक तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री के अलावा 2014 में केरल की राज्यपाल भी रही हैं।

शीला दीक्षित को फिर दिल्ली की कमान सौंपे जाने के बाद उन्होंने पार्टी हाईकमान का आभार जताते हुए कहा कि ‘मैं अपनी उम्र और गठबंधन के सवालो पर कोई कमेंट नहीं करूंगी।’उन्होंने कहा कि ‘एलायंस जब फाइनल होगा तब उस पर बात की जाएगी। अभी ये केवल मीडिया में है।’

इससे पहले दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने अपने स्वास्थ्य कारणों से अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। माकन के इस्तीफा के बाद ही कयास लगाए जाने लगे थे कि दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की ज़िम्मेदारी एक बार फिर शीला दीक्षित को सौंपी जा सकती है।

वहीँ माकन के इस्तीफे के बाद दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको ने कहा था कि अजय माकन ने स्वास्थ्य कारणों से इस्तीफा दिया है। अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनके इस्तीफे को पेंडिंग में रखा था, लेकिन अब उनका इस्तीफा मंजूर कर लिया गया है।

शीला दीक्षित मूलतः उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखती हैं। वे पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी केबिनेट में भी मंत्री पद पर रह चुकी है। शीला दीक्षित द्वारा दिल्ली में कांग्रेस की कमान संभालने के बाद अब उम्मीद जतायी जा रही है कि अजय माकन को जल्द ही कांग्रेस की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में स्थान दिया जा सकता है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...