डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या, प्रदेश में कानून व्यवस्था के दावों पर उठे सवाल

मेरठ। माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल में गोली मारकर हत्या किये जाने के मामले में अब उत्तर प्रदेश की जेलों में सुरक्षा को लेकर सवालिया निशान पैदा हो गए हैं।

मुन्ना बजरंगी को एक केस के सिलसिले में सुनवाई के लिए सोमवार को बागपत कोर्ट में पेश किया जाना था। रविवार को उसे झांसी से बागपत लाया गया था। बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गयी।

इस घटना के बाद उत्तर प्रदेश की जेलों में कैदियों की सुरक्षा को लेकर सवाल उठ रहे हैं। तमाम सुरक्षा बंदोबस्त के बावजूद जेल में गोली मार कर मुन्ना बजरंगी की हत्या ये साफ़ होता है कि जेल भी पूरी तरह सुरक्षित नहीं हैं।

अभी हाल ही में मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से अपने पति की जान को खतरा बताते हुए दूसरी जेल में शिफ्ट करने की गुहार लगायी थी। सीमा का दावा था कि उसके पति का एनकाउंटर करने की साजिश रची जा रही है।

मुन्ना बजरंगी पर करीब 40 हत्याओं, लूट, रंगदारी की घटनाओं में शामिल होने के मुकदमे चल रहे थे। उस पर कानपुर, मुंबई, लखनऊ सहित कई शहरो में मामले दर्ज थे। पुलिस उस पर सात लाख का इनाम भी घोषित कर चुकी थी।

मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या के बाद उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर एक बार फिर सवाल उठ रहे हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने मुन्ना बजरंगी हत्या मामले में न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें