डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी का विरोध, 90 लाख ट्रक मालिक हड़ताल पर

नई दिल्ली। देश में डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोत्तरी के खिलाफ 90 लाख ट्रक मालिक आज से हड़ताल पर चले गए हैं। ट्रक मालिकों की हड़ताल से आम खाने पीने की कीमतें और सब्ज़ियों के दामों में बढोत्तरी हो सकती है।

ऑल इंडिया कन्फेडरेशन ऑफ गुड्स व्हीकल्स ऑनर्स के प्रेसिडेंट चन्ना रेड्डी के अनुसार, डीजल और पेट्रोल के दाम से काफी भारी नुकसान हो रहा है। यही कारण है कि करीब 90 लाख ट्रक हड़ताल पर जा रहे हैं। ये करीब 60 फीसदी ट्रक हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार कह रही है कि दाम अंतरराष्ट्रीय मार्केट की वजह से बढ़ रहे हैं लेकिन ऐसा नहीं है। सरकार ने ही इतना टैक्स लगाया हुआ है कि लोगों को नुकसान हो रहा है।

गौरतलब है कि 1 जनवरी, 2018 के बाद से अभी तक पेट्रोल के दाम 6.46 रुपए और डीजल के दाम 8.21 रुपए तक बढ़ चुके हैं। पिछले कुछ दिनों में ये बढ़ोतरी काफी तेजी से बढ़ी है हालांकि बीते दिनों कुछ पैसे दाम घटे भी हैं।

ट्रक मालिकों की हड़ताल के बाद आज से देश के कई राज्यों में ट्रको के पहिये थम गए हैं। दूर दराज के इलाको तक माल ढोने वाले ट्रक मालिकों ने हड़ताल की सूचना के बाद अपने अपने ट्रक ढावो और सड़क के सहारे खड़े कर दिए हैं।

यदि ट्रक मालिकों की हड़ताल लम्बी चली तो इससे महंगाई बढ़ने का अंदेशा है। हड़ताल से दाल,चावल, आटा, सब्ज़ी और फलो की आपूर्ति पर असर पड़ने और कीमत बढ़ने की आशंका ज़ाहिर की जा रही है। फ़िलहाल हड़ताल को लेकर सरकार की तरफ से कोई बयान नहीं आया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें