डीएमके नेता करूणानिधि का निधन

चेन्नई। डीएमके नेता एम करूणानिधि का निधन हो गया है। वे पिछले कई दिनों से कावेरी अस्पताल में भर्ती थे। वे 94 साल के थे। हालांकि, बीते 11 दिनों के दौरान उनके स्वास्थ्य में सुधार बताया जा रहा था, लेकिन सोमवार को उनकी तबीयत दोबारा बिगड़ गयी थी।

कावेरी अस्पताल की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन में इस बात की पुष्टि की गयी है कि एम करुणानिधि का निधन मंगलवार की शाम करीब 6 बजकर 10 मिनट पर हो गया। डीएमके नेता एम के स्टालिन ने समर्थकों से शांति की अपील की और कावेरी अस्पताल के डॉक्टरों का शुक्रिया अदा किया।

तमिलनाडु सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री और द्रमुक अध्यक्ष एम करुणानिधि के निधन पर सात दिन के शोक की घोषणा की. मुख्य सचिव गिरिजा वैद्यनाथन ने बताया कि इस दौरान तिरंगा आधा झुकां रहेगा और सारे सरकारी कार्यक्रम रद्द रहेंगे। उन्होंने एक बयान में कहा कि दिग्गज द्रमुक नेता के निधन के बाद मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने यह आदेश जारी किया।

उन्होंने बताया कि सरकार ने करुणानिधि के अंतिम संस्कार को लेकर बुधवार के लिए छुट्टी घोषित की है। उनका पार्थिव शरीर अति विशिष्ट और आमजनों के अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल में रखा जाएगा।

मुख्य सचिव ने बताया कि करुणानिधि का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा और पार्थिव शरीर तिरंगे में लिपटा जाएगा। पलानीस्वामी ने निर्देश दिया है कि राज्य गजट में शोक संदेश प्रकाशित किया जाये।

इस बीच दिवंगत पूर्व सीएम को मरीना बीच पर दफनाने के लिए उनके बेटे स्टालिन ने राज्य सरकार से अनुमति मांगी थी लेकिन राज्य सरकार ने इसकी अनुमति देने से इंकार कर दिया है। इससे नाराज़ डीएमके समर्थको ने कावेरी अस्‍पताल के बाहर हिंसक प्रदर्शन किया।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें