ट्रंप का नया फरमान: 4 नवंबर तक ईरान से तेल लेना बंद करे भारत-चीन-पाकिस्तान

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नया फरमान जारी किया है। ट्रंप ने कहा है कि 4 नवंबर तक भारत, चीन और पाकिस्तान सहित एशियाई देश ईरान से कच्चे तेल आयत बंद कर दें ।

इतना ही नहीं ट्रंप ने 4नवंबर के बाद ईरान से तेल आयत करने वाले देशो के खिलाफ कार्यवाही करने की धमकी भी दी है। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले में ज़रा सी भी ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

ईरान तीसरा वह देश है जहाँ से भारत सर्वाधिक मात्रा में कच्चे तेल का आयात करता है। भारत इस समय ईराक, सऊदी अरब और ईरान से तेल आयत करता है।

पिछले महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान परमाणु समझौते से हटने की घोषणा की थी, साथ ही, अमेरिकी प्रतिबंधों को फिर से लगाने का ऐलान किया था, जो समझौता होने के बाद हटा लिये गये थे।

उस समय ट्रंप प्रशासन ने विदेशी कंपनियों को उनकी वाणिज्यिक गतिविधियों के हिसाब से ईरानी कंपनियों के साथ कारोबार बंद करने के लिए 90 से 180 दिन का समय दिया था।

अब अमेरिका भारत और चीन सहित सभी देशों पर ईरान से कच्चे तेल की खरीद पूरी तरह बंद करने के लिए दबाव बना रहा है। अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि सभी देशों को चार नवंबर तक ईरान से कच्चे तेल का आयात बंद करना होगा।

एजेंसी रिपोर्ट्स के मुताबिक जब अधिकारी से जब पूछा गया कि क्या भारत और चीन को भी ईरान से तेल का अयात रोकने को कहा गया है, तो उसने कहा ‘चीन और भारत पर, हां , निश्चत रूप से’. अधिकारी का तात्पर्य था कि यह पाबंदी भारत और चीन पर अन्य सभी देशों पर लागू होगी. भारत और चीन ईरानी कच्चे तेल के प्रमुख आयातकों में हैं।

अधिकारी ने कहा कि भारत और चीन की कंपनियों को ईरान से तेल का आयात बंद नहीं करने पर 2015 से पहले लगाये गये प्रतिबंधों का फिर सामना करना पड़ेगा. हम सभी देशों से आग्रह कर रहे हैं कि वे ईरान से कच्चे तेल के आयात को शून्य पर लायें।

एक सवाल के जवाब में अधिकारी ने कहा कि इन देशों को अभी से ईरान से तेल आयात कम करना चाहिए और चार नवंबर तक इसे पूरी तरह बंद करना चाहिए। अधिकारी ने कहा कि यह ट्रंप प्रशासन की ईरान के वित्तपोषण के स्रोत को अलग-थलग करने की रणनीति का हिस्सा है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *