झारखंड में महागठबंधन का एलान, इन पार्टियों ने मिलाया हाथ

रांची। 2019 के आम चुनाव के लिए झारखंड में विपक्ष का महागठबंधन बन गया है। इस महागठबंधन में चार राजनैतिक दल शामिल हैं। कांग्रेस की राज्य इकाई ने राज्य में महागठबंधन बनाने के लिए झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड विकास मोर्चा और राष्ट्रीय आरजेडी के गठबंधन का एलान किया। अब लेफ्ट पार्टियों ने भी इस महागठबंधन में शामिल होने की इच्छा जताई है।

समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक राज्य कांग्रेस के प्रवक्ता किशोर सहदेव ने बताया कि चारों पार्टियों के बीच पहले दौर की बातचीत दिल्ली में हुई थी, जिसमें सैधांतिक रूप से चारों पार्टियों ने मिलकर चुनाव लड़ने पर सहमति जता दी है। दूसरे चरण की बातचीत इसी महीने के अंतिम सप्ताह में दिल्ली में होगी जिसमें सीटों के बंटवारें पर फैसला लिया जाएगा।

झारखंड मुक्ति मोर्चा के सचिव सुप्रियो भट्टाचार्य के अनुसार ‘भाजपा को हराने के लिए हमने लोकसभा चुनाव साथ लड़ने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों की एकता सेकुलर वोटों का विभाजन रोकने में कारगर साबित होगा।

झारखंड विकास मोर्चा इस समय राज्य में सबसे प्रमुख विपक्षी दल है। विधानसभा में उसकी 18 सीटें हैं। इसे देखते हुए पार्टी का मानना है कि यह गठबंधन न सिर्फ लोकसभा चुनावों तक सीमित रहे बल्कि इससे भी आगे जाकर विधानसभा चुनाव लड़े जिसमें पार्टी के सर्वेसर्वा और पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाए।

बता दें कि कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा ने साल 2004 में पहली बार एकजुट होकर लोकसभा चुनाव लड़ा था, तब उसे 14 में से 13 सीटों पर जीत हासिल हुई थी लेकिन पिछले लोकसभा में यह प्रदर्शन न दोहराया जा सका। 2014 में कांग्रेस ने आरजेडी और जेएमएम के साथ मिलकर भाजपा को चुनौती देने की कोशिश की थी। भाजपा को पिछले लोकसभा चुनाव में 14 में से 12 सीटें मिली।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें