जेएनयू छात्रसंघ चुनाव: लेफ्ट ने लहराया परचम, आइशी घोष बनी अध्यक्ष

नई दिल्ली। दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविधालय (जेएनयू) में हुए छात्र संघ चुनावो के परिणाम आ गए हैं। छात्रसंघ चुनाव में एकबार फिर लेफ्ट ने अपना परचम लहराया है।

यह चौथा मौका है जब जेएनयू में वामपंथी एकता पैनल (एसएफआई,डीएसएफ, आइसा व एआईएसएफ) के उम्मीदवारों ने सेंट्रल पैनल की चारों सीटों पर जीत हासिल की है।

जेएनयू छात्र संघ चुनाव में विजयी उम्मीदवारों में आइशी घोष अध्यक्ष, साकेत मून उपाध्यक्ष, सतीश चंद्रा महासचिव व एमडी तानिश ने संयुक्त सचिव सीट पर विजय हासिल की है। इस चुनाव में बीजेपी समर्थित अखिल भारतीय विधार्थी परिषद का खाता भी नहीं खुल सका है।

गौरतलब है कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविधालय में मतदान के बाद चुनावी नतीजे घोषित करने पर दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने अगले आदेश तक रोक लगा दी थी।

जेएनयू छात्रसंघ चुनावो के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में दो अलग अलग याचिका दायर की गयी थीं। एक याचिका में लिंगदोह कमेटी की सिफारिशों के उलंघन का आरोप लगाया गया है। इस याचिका में कहा गया कि काउंसलर की संख्या 55 होनी चाहिए लेकिन इलेक्शन कमेटी ने अपना नया फार्मूला बनाकर उसको इस बार घटा दिया गया है।

वहीँ दूसरी याचिका में अंशुमन दुबे ने कहा कि उसने दो बार चुनाव लड़ने के लिए नामांकन किया था लेकिन दोनों बार गलत तरीके से उसका नामांकन ख़ारिज कर दिया गया और रिड्रेसल कमेटी ने उसका नामांकन ख़ारिज करने का कोई कारण नहीं बताया।

याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने अगली सुनवाई 17 सितंबर को करने का फैसला किया था। कोर्ट ने अपने अगले आदेश तक जेएनयू छात्र संघ चुनावो के परिणाम घोषित करने पर रोक लगा दी थी। इसके बाद आज दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश के तहत मंगलवार शाम को नतीजे घोषित किए गए।

चुनाव परिणाम :

अध्यक्ष: एसएफआई की अध्यक्ष प्रत्याशी आईशी घोष ने एबीवीपी के मनीष जांगिड़ को 1128 वोट से हराया।

उपाध्यक्ष: उपाध्यक्ष पद पर डीएसएफ के साकेत मून ने एबीवीपी के श्रुति अग्निहोत्री को 2030 वोट से हराया।

महासचिव: महासचिव पद पर आइसा के सतीश चंद्र यादव ने एबीवीपी के सबरीश पीए को 1163 वोट से हराया।

संयुक्त सचिव: संयुक्त सचिव पद पर आइसा के एआईएसएफ के एमडी दानिश ने एबीवीपी के सुमांता साहू को 1787 वोट से हराया।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें