जुनेद क़ाज़ी द्वारा उठाये गए मुद्दे के समर्थन में आये ओवैसी, संसद में उठाया मुद्दा

नई दिल्ली। आईएनओसी यूएसए के पूर्व अध्यक्ष जुनेद क़ाज़ी द्वारा भारतीय मुसलमानो को पाकिस्तानी कहने वालो को सजा दिलाने के लिए एस सी/एसटी एक्ट की तर्ज पर कानून बनाने की मांग को आगे बढ़ाते हुए आज आल इंडिया मजलिस ऐ इत्तेहादुल मुस्लिमीन(एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने संसद में ये मुद्दा उठाया।

बता दें कि न्यूयॉर्क से 2 फरवरी को लोकभारत से फोन पर एक्सखलूसिव बातचीत में जुनेद क़ाज़ी ने भारतीय मुसलमानो को पाकिस्तानी कहने और उन्हें पाकिस्तान जाने की सलाह देने वाले बयानों का हवाला देते हुए कहा था कि देश में ऐसे मामले लगातार बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश में एस सी/एसटी एक्ट की तर्ज पर एक ऐसा कानून बनाने की आवश्यकता है जिसमे यदि कोई भारतीय मुसलमानो को पाकिस्तान का नाम लेकर प्रताड़ित करे तो उसे सजा दी जा सके।

इतना ही नहीं जुनेद काज़ी ने कहा था कि कुछ लोग पाकिस्तान का प्रचार करने की अपनी रणनीति के तहत भारतीय मुसलमानो का नाम पाकिस्तान के साथ जोड़ते रहते हैं। लोकभारत से बात करते हुए उन्होंने सरकार से मांग की थी कि देश के धर्म निरपेक्ष स्वरुप को मजबूत करने के लिए यह सुनिश्चित होना चाहिए कि कोई भी व्यक्ति पाकिस्तान का नाम लेकर देश के मुसलमानो को प्रताड़ित और अपमानित न कर सके।

जुनेद क़ाज़ी द्वारा उठायी गयी मांग को आज एआईएमआईएम के अध्यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने संसद में उठाते हुए कहा कि केंद्र सरकार को ऐसा कानून लाये जिसमे भारतीय मुसलमान को पाकिस्तानी कहे जाने पर तीन साल की सजा का प्रावधान हो।

2 फरवरी को सबसे पहले जुनेद क़ाज़ी ने उठाया था यह मुद्दा:

बता दें कि जुनेद क़ाज़ी हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सबका साथ सबका विकास से प्रभावित हुए थे। लोकसभारत से बात करते हुए उन्होंने भारतीय मुसलमानो को पाकिस्तानी कहकर अपमानित किये जाने पर चिंता व्यक्त की थी।

जुनेद क़ाज़ी ने क्या कहा था :

1- भारत में पैदा हुए किसी भी मुसलमान को पाकिस्तानी कहना न सिर्फ उसके आत्म सम्मान को ठेस पहुँचाना है बल्कि उसकी कई पीढ़ियों की देशभक्ति पर सवाल खड़े करने जैसा हैदेश में कुछ लोग पाकिस्तान का प्रचार करने के लिए बार बार लोग मुसलमानो को पाकिस्तानी कहकर अपमानित करते हैं।

2-भारतीय मुसलमान को पाकिस्तानी कहने वालो के खिलाफ अब तक किसी सरकार ने कोई कार्रवाही नहीं की है।कोई भी नेता या अधिकारी किसी भी मुसलमान को बिना किसी ठोस सबूत और आधार के पाकिस्तानी कैसे कह सकते हैं।

3-एससी – एसटी एक्ट की तरह एक ऐसा कानून भी बनना चाहिए जिसमे यदि कोई किसी मुसलमान के लिए पाकिस्तानी शब्द का इस्तेमाल करे या उसे पाकिस्तान जाने की सलाह दे तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेजा जा सके।

4-हमारा संविधान यह हक किसी को नहीं देता कि कोई भी नेता या अन्य कोई किसी भी मुसलमान को पाकिस्तानी या मुसलमानो को पाकिस्तान जाने के लिए कह सके। इसके बावजूद मुसलमानो पर पाकिस्तान का नाम लेकर दबाव बनाने की कोशिशें होती रही हैं लेकिन अब इसका अंत होना चाहिये।

5-पहले मुसलमानो की तरह अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों के साथ भी जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल करके उन्हें अपमानित किया जाता था लेकिन अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम, 1989 अमल में आने के बाद ऐसे मामलो में तेजी से गिरावट आयी है।

6-मुसलमानो के हितो के संरक्षण के लिए भी ऐसे ही एक कानून की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि वे जल्दी ही इस मामले में कानून बनाये जाने के लिए बड़े स्तर पर मुहिम शुरू करेंगे।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *