जिन्ना तस्वीर विवाद: एएमयू छात्रों के समर्थन में आये राजनैतिक दल

अलीगढ़। अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के यूनियन हॉल में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर पैदा हुए विवाद में अब गैर बीजेपी दल एएमयू छात्रों के समर्थन में खुलकर आ गए है।

एएमयू छात्रों के समर्थन में सपा के पूर्व विधायक ज़फ़र आलम, बसपा नेता और पूर्व विधायक जमीरउल्लाह, बसपा के मेयर मोहम्मद फ़ुरक़ान, कांग्रेस के जिलाध्यक्ष और पूर्व सांसद चौधरी बिजेंद्र सिंह तथा जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने जिन्ना की तस्वीर को लेकर पैदा हुए विवाद के लिए बीजेपी को ज़िम्मेदार बताया है।

कांग्रेस के जिलाध्यक्ष चौधरी बिजेंद्र सिंह ने छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहा कि भारत के विभाजन के लिए मोहम्मद अली जिन्ना नहीं बल्कि सावरकर जिम्मेदार हैं। धरनास्थल पर छात्रों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि वे यहाँ राजनीती करने नहीं बल्कि हक की लड़ाई लड़ने वालो का साथ देने आये हैं।

बिजेंद्र सिंह ने कहा कि पीएम मोदी विदेशो में जाकर अपना सेकुलर चेहरा चमकाते हैं वहीँ देश में उन्ही की पार्टी के सांसद जिन्ना का नाम लेकर साम्प्रदायिकता भड़काते हैं। उन्होंने कहा कि न्याय की लड़ाई में वे एएमयू छात्रों के साथ हैं।

पूर्व विधायक व बसपा नेता हाजी जमीरउल्लाह ने कहा कि छात्रों के हित में यहां के लोग जेल भरेंगे। उन्होंने कहा कि बीजेपी की कोशिशों को कामयाब नहीं होने देना है। हाजी जमीरउल्लाह ने कहा कि वे बीजेपी के मंसूबो के खिलाफ इस लड़ाई में अपना पूरा सहयोग करने को वचनवद्ध हैं।

शनिवार को एएमयू छात्रों के धरने में शामिल होने पहुंचे सांसद और जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने कहा कि वे इस मामले को संसद में उठाएंगे। उन्होंने कहा कि जिन्ना की तस्वीर संसद में है। मुंबई में जिन्ना हाउस है। इस पर भाजपा क्यों नहीं कुछ कह रही है।

उन्होंने छात्रों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि छात्रों पर लाठीचार्ज नहीं बल्कि ज़ुल्म हुआ है। उन्होंने कहा कि ‘ये पप्पू यादव का वादा है कि वे मैं इस मामले में खामोश नहीं बैठूंगा, इस मामले को संसद में उठाऊंगा।”

वहीँ एएमयू केम्पस के बाहर छावनी जैसा माहौल है। प्रशासन ने किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए भारी मात्रा में पुलिसबल तैनात किया है। एएमयू के मुख्य गेट पर तीन जगह बेरिकेटिंग की गयी है। पूरी स्थति पर आलाधिकारी नज़र बनाये हुए हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें