जदयू-राजद नेताओं की मुलाकात के बाद नीतीश को लेकर फिर लग रहे कयास

पटना। जनता दल यूनाइटेड के नेता और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी नरेंद्र सिंह द्वारा राष्ट्रीय जनता दल के उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह से उनके आवास पर मुलाकात किये जाने के बाद एक बार फिर बिहार की राजनीति गर्म हो चली है।

कयास लगाए जा रहे हैं कि विधानसभा चुनाव से पहले नीतीश कुमार बीजेपी से अपना दामन छुड़ाने के चक्कर में हैं और वे फिर से महागठबंधन में वापसी कर सकते हैं।

नरेंद्र सिंह और रघुवंश प्रसाद सिंह के बीच हुई मुलाकात के बाद लालू यादव के सबसे करीबी माने जाने वाले रघुवंश प्रसाद सिंह ने अपने बयान से कयासों को और हवा दे दी। रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि उन्हें नीतीश कुमार से कोई परहेज नहीं है।

इतना ही नहीं रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि वे उन सब नेताओं का स्वागत करते हैं जो बीजेपी के खिलाफ लड़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि गैर भाजपा दलों का स्वागत करते हैं।

वहीँ जदयू नेता नरेंद्र सिंह ने इस मुलाकात को व्यक्ति बताते हुए कहा कि राजनीति में कोई किसी का स्थाई दोस्त या दुश्मन नहीं होता। उन्होंने कहा कि राजनीति में संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा सकता। नरेंद्र सिंह ने कहा कि वे इस मुलाकात को लेकर जल्द खुलासा करेंगे।

गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेडीयू को सिर्फ एक मंत्रिपद ऑफर किये जाने के बाद जदयू नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था कि जदयू भविष्य में मोदी सरकार में शामिल नहीं होगा। इतना ही नहीं बिहार में हुए मंत्रिमंडल विस्तार के बीजेपी के किसी मंत्री को शामिल नहीं किया गया।

इसके बाद कयासों और चर्चाओं के दौर शुरू हो गया। कयास लगाए जाने लगे कि नीतीश कुमार कभी भी बीजेपी से अपना हाथ छुड़ा सकते हैं। इन कयासों को उस समय और हवा मिले जब राजद नेता और लालू यादव के करीबी रघुवंश प्रसाद सिंह ने नीतीश कुमार को महागठबंधन में घर वापसी का न्यौता दे डाला।

आज रघुवंश प्रसाद सिंह और नरेंद्र सिंह की मुलाकात के बाद एक बार फिर उन कयासों और चर्चाओं ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया। जिनमे कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार कभी भी बीजेपी से अपना दामन छुड़ा सकते हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें