चुनाव आयोग ने कहा ‘सभी के पड़ेंगे वोट, चाहे रात के 12 बजे तक करनी पड़े पोलिंग’

कैराना। कैराना में ईवीएम मशीनों की खराबी को लेकर जहाँ राष्ट्रीय लोकदल उम्मीदवार ने चुनाव आयोग को पत्र लिख कर शिकायत की है वहीँ चुनाव आयोग का कहना है कि सिर्फ 15% ईवीएम में ही गड़बड़ी आयी है। जिन्हे तत्काल बदलवा दिया गया है।

इससे पहले रालोद और समाजवादी पार्टी ने ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत करते हुए कैराना और नूरपुर सीट पर चुनाव रद्द करने की मांग की। कैराना से रालोद उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने कहा कि रमजान में चुनाव इसलिए कराया जा रहा है जिससे मुसलमान पूरी तादाद में वोट न डाल सकें।

उन्होंने कहा कि जब मुस्लिम समुदाय के लोग रमजान में रोज़े रख रहे हैं तो वे सुबह सुबह वोट डालना पसंद करते हैं जिससे तेज गर्मी में न निकलना पड़े लेकिन सुबह सुबह ही मुस्लिम इलाको में ईवीएम ख़राब होना बड़ी साजिश की तरफ इशारा करता है।

वहीँ समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया कि अधिकांश ईवीएम मशीने दलित और मुस्लिम बाहुल्य इलाको में ख़राब मिली हैं। समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने लखनऊ में कहा कि बीजेपी फूलपुर और गोरखपुर हार का बदला लेने के लिए साजिश रच रही है।

दूसरी तरफ चुनाव आयोग ने ईवीएम के बड़ी तादाद में ख़राब होने के आरोप को बेबुनियाद बताया है। उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकटेश्वर लू ने कहा, ‘मशीनों के खराब होने के आरोप निराधार हैं। उन्होंने कहा कि महज 15 फीसदी मशीनें खराब हुई हैं। जिन्हे शिकायत मिलने के बाद इसे बदल दिया गया है।’

मशीनों के खराब होने के कारण मतदाताओं के मतदान से वंचित होने की स्थिति पर चुनाव अधिकारी ने कहा कि हर बूथ पर सभी मतदाताओं से वोट डलवाए जाएंगे, चाहे रात के 12 बज जाएं। वेंकटेश्वर ने कहा कि 25 फीसदी ईवीएम को रिजर्व रखा गया है. आयोग डीएम और कमिश्नर के संपर्क में है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें