बड़ी खबर

चंडीगढ़ में मेट्रो शुरू करने का विरोध क्यों कर रही हैं भाजपा सांसद किरण खेर

kiran-khair

चंडीगढ़ । हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में मेट्रो सेवा शुरू करने को लेकर भाजपा सांसद और अभिनेत्री किरण खेर ने चौंकाने वाला बयान दिया है । किरण खेर ने सोमवार को कहा कि चंडीगढ़ को मेट्रो की जरूरत नहीं है । यहां मेट्रो सेवा शुरू होने से इस शहर की सुंदरता बिगड़ जाएगी. वे नहीं चाहतीं कि मेट्रो बनाने के लिए पूरे शहर को तहस-नहस कर किया जाए ।

उन्‍होंने यह भी कहा कि मेट्रो प्रोजेक्‍ट काफी खर्च होंगे, जिससे शहर पर बोझ बढ़ जाएगा. इसकी भरपाई करना भी काफी मुश्‍किल होगा. शहर के लोग मेट्रो में सफर करना पसंद नहीं करेंगे । सांसद ने कहा कि चंडीगढ़ में मेट्रो की कोई जरूरत ही नहीं है । मेट्रो की महंगी टिकट लेकर कोई सफर ही नहीं करेगा, जिससे इस प्रोजेक्‍ट को शुरू करने का खर्च ही पूरा नहीं होगा ।

सांसद की इन बातों ने प्रशासन की अभी तक की मेहनत पर सवाल खड़े कर दिए हैं । 10 साल से डीपीआर तैयार करने में पैसा और समय दोनों जाया हो रहे हैं । ऐसा भी कहा जा रहा है कि राजनीतिक दबाव नहीं बनने के कारण डीपीआर अभी तक मंजूर नहीं हुई है । प्रशासन जैसे ही डीपीआर केंद्र सरकार को भेजता है उसमें कोई न कोई कमी निकल आती है ।

गौरतलब है की पिछले कई सालों से प्रशासन की और से मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए डीपीआर तैयार करने का काम चल रहा है और सोमवार को मेट्रो को लेकर ही एक अहम बैठक हुई ।

इस मीटिंग में मेट्रो से संबंधित उन मुद्दों पर मंथन किया गया जिसे लेकर पिछले काफी समय से केंद्र सरकार का अड़ंगा पड़ रहा है । अभी हाल ही में केंद्र सरकार ने मेट्रो प्रोजेक्ट पर अपनी कुछ ऑब्जर्वेशंस भेजी थीं । हालांकि इन ऑब्जर्वेशंस को क्लीयर करने के लिए प्रशासन ने अपना जवाब केंद्र को भेज दिया था ।

किरण खेर ने कहा कि मेट्रो पर जितना खर्च होगा, उसकी भरपाई नहीं हो सकेगी. शहर के लोग मेट्रो में सफर करना पसंद नहीं करेंगे । सांसद ने कहा कि चंडीगढ़ में मेट्रो की कोई जरूरत ही नहीं है । मेट्रो की महंगी टिकट लेकर कोई सफर ही नहीं करेगा। जिससे मेट्रो को चलाने का खर्च ही पूरा नहीं होगा ।

सांसद की इन बातों ने प्रशासन की अभी तक की मेहनत पर सवाल खड़े कर दिए हैं 10 साल से डीपीआर तैयार करने में पैसा और समय दोनों जाया हो रहे हैं । ऐसा भी कहा जा रहा है कि राजनीतिक दबाव नहीं बनने के कारण डीपीआर अभी तक मंजूर नहीं हुई है ।

प्रशासन जैसे ही डीपीआर केंद्र सरकार को भेजता है उसमें कोई न कोई कमी निकल आती है । गौरतलब है की पिछले कई सालों से प्रशासन की और से मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए डीपीआर तैयार करने का काम चल रहा है और सोमवार को मेट्रो को लेकर ही एक अहम बैठक हुई ।

इस मीटिंग में मेट्रो से संबंधित उन मुद्दों पर मंथन किया गया जिसे लेकर पिछले काफी समय से केंद्र सरकार का अड़ंगा पड़ रहा है । अभी हाल ही में केंद्र सरकार ने मेट्रो प्रोजेक्ट पर अपनी कुछ ऑब्जर्वेशंस भेजी थीं । हालांकि इन ऑब्जर्वेशंस को क्लीयर करने के लिए प्रशासन ने अपना जवाब केंद्र को भेज दिया था ।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Facebook

Copyright © 2017 Lokbharat.in, Managed by Live Media Network

To Top