गुजरात में निर्दलीय विधायक का आदिवासी प्रमाणपत्र रद्द

अहमदाबाद। गुजरात में निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पंचमहाल जिले की मोरवा हडफ सीट से चुनाव जीतने वाले निर्दलीय विधायक भूपेंद्र खांट का आदिवासी जाति प्रमाणपत्र रद्द हो गया है। यह सीट आदिवासी कोटे से रिज़र्व थी।

विधायक भूपेंद्र खांट के आदिवासी होने पर चुनाव के दौरान सवाल उठाये गए थे। इस सीट पर बीजेपी उमीदवार विक्रम सिंह डिंडोर ने आरोप लगाया था कि भूपेंद्र सिंह खांट आदिवासी नहीं हैं इसलिए उनका नामांकन रद्द किया जाए।

वहीँ चुनाव में पराजित होने के बाद बीजेपी उम्मीदवार ने विधायक भूपेंद्र सिंह खांट के आदिवासी जाति प्रमाणपत्र पर सवाल उठाते हुए एक बड़ी विरोध रैली कर उनके आदिवासी जाति प्रमाणपत्र की जांच की मांग कोई थी।

इस मामले की जांच आदिम जाति विकास बोर्ड के कमिशनर आर.जे. मांकडिया को सौंपी गयी थी। जांच रिपोर्ट में सामने आया कि निर्दलीय विधायक भूपेंद्र खांट आदिवासी जाति से नहीं हैं। इसपर उनका प्रमाणपत्र रद्द कर दिया गया।

वहीँ निर्दलीय विधायक भूपेंद्र सिंह खांट इस मामले को हाईकोर्ट में चुनौती देने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य की बीजेपी सरकार के इशारे पर उनके खिलाफ साजिश हो रही है। उन्होंने कहा कि वे इस मामले को हाईकोर्ट में चुनौती देंगे।

वहीँ जानकारों की माने तो यदि भूपेंद्र सिंह खांट को अहमदाबाद हाईकोर्ट से कोई राहत नहीं मिलती तो उनका न सिर्फ निर्वाचन रद्द हो जाएगा बल्कि इस सीट पर फिर से चुनाव कराया जाएगा।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *