कोरेगांव हिंसा : जिग्नेश मेवाणी, उमर खालिद को केंद्रीय मंत्री की क्लीन चिट

पुणे। कोरेगांव जातीय हिंसा के बाद आरोपों के घेरे में आये गुजरात के विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद को केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले का साथ मिला है।

रामदास अठावले ने दोनो युवाओं को क्लीन चिट देते हुए कहा कि गुजरात के विधायक मेवाणी और जेएनयू छात्र उमर खालिद की भीमा-कोरेगांव हिंसा में कोई भूमिका नहीं है।

इससे पहले महाराष्ट्र के कई इलाको में फैली हिंसा के गुजरात तक पहुँचने के बाद जिग्नेश और खालिद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। आरोप लगने पर जिग्नेश ने गुरुवार को कड़ी नाराजगी जताते हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि उन्हें निशाना बनाए जाना भारतीय जनता पार्टी की बचकानी हरकत है।

दलित नेता मेवाणी ने कहा कि उनपर भड़काऊ भाषण देने का झूठा आरोप लगाया जा रहा है। जब मैं वहां गया ही नहीं तो उनका नाम शामिल किया जाना कहां तक सही है?

वहीँ एक न्यूज़ चैनल से बातचीत में जिग्नेश मेवाणी ने दावा किया कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी सौ का आंकड़ा भी नहीं छू सकेगी। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के दो फैसलों नोट बंदी और जीएसटी से बेरोज़गारी बढ़ी है। युवाओं को काम नहीं मिल रहा इसलिए उनमे सरकार के प्रति नाराज़गी है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें