कैराना में 54.17 तथा नूरपुर में 61 फीसदी मतदान, ईवीएम की शिकायत लेकर आयोग पहुंचा विपक्ष

नई दिल्ली। देश की चार लोकसभा और दस विधानसभा सीटों पर आज हुए उपचुनाव के दौरान कई सीटों पर ईवीएम और वीवीपैट मशीनों में गड़बड़ी की शिकायतें सामने आयी हैं।

उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा सीट पर शाम छह बजे तक क्रमश: 54.17 और 61 फीसदी मतदान होने की खबर है। दोनों चुनाव क्षेत्रों में सुबह से ही कई जगह ईवीएम और वीवीपैट मशीन खराब होने की खबरें आ रही थीं, जिनकी शिकायत सपा और रालोद ने चुनाव आयोग से की है।

गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान कैराना में 73 फीसदी और 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान नूरपुर में 66.82 फीसदी मतदान हुआ था। वोटों की गिनती 31 मई को की जाएगी

उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, निर्वाचन क्षेत्र से 3 बैलेट यूनिट, 3 कंट्रोल यूनिट तथा 384 स्थानों पर वीवीपैट खराब होने की शिकायतें प्राप्त हुई, जिन्हें बदलकर सुचारू रूप से मतदान संपन्न कराया गया। जिन मतदान स्थालों पर वीवीपैट खराब होने के कारण मतदान दो घंटे से अधिक बाधित रहा, उनके बारे में संबधित जिला निर्वाचन अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी जा रही है। रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद ही उन स्थानों पर पुनर्मतदान के बारे में निर्णय लिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र सहित देश के 10 राज्यों में पड़ने वाली 4 लोकसभा और 10 विधानसभा सीटों पर आज भीषण गर्मी और ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतों के बीच आज मतदान संपन्न हुआ। इन गड़बड़ियों की शिकायत सपा, रालोद और कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की है।

वहीँ चुनाव आयोग का कहना है कि गर्मी की वजह से कुछ जगह ईवीएम में खराबी आई है, जिसे तुरंत बदला गया । जहां मशीनें नहीं बदली जा सकीं वहां दोबारा चुनाव कराया जाएगा।

लोकसभा सीटों में नगालैंड में 70, महाराष्ट्र के पालघर में करीब 46 फीसदी लोगों ने वोट डाले। भंडारा-गोंदिया में 40 फीसदी से भी कम लोगों ने वोट डाले। यहां का सही आंकड़ा देर रात तक आने की उम्मीद है।

झारखंड के गोमिया में 62.61 और सिल्ली में 75.5, कर्नाटक के आरआरनगर में 54, केरल के चेंगन्नुर में 76, मेघालय के अम्पाति में 90.42 पंजाब के शाहकोट में 70 फीसदी वोट पड़े।

यूपी की कैराना लोकसभा सीट पर कई जगहों पर ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की शिकायतें मिलीं। रालोद की उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने आरोप लगाया है कि मतदाताओं को जानबूझकर मताधिकार से वंचित किया जा रहा है। तबस्सुम हसन ने अपना वोट डालने के बाद आरोप लगाया कि मुस्लिम और दलित बाहुल्य इलाकों में खराब ईवीएम मशीनें बदली नहीं गई हैं।

साथ ही तबस्सुम ने यह भी आरोप लगाया कि रमजान के दौरान चुनाव कराने की रणनीति पहले से थी, ताकि मुस्लिम वोट देने के लिए न निकलें। इस संबंध में रालोद ने मशीनों से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। रालोद ने चुनाव आयोग से शिकायत की है।

वहीं, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा, ‘उप चुनाव में जगह-जगह से ईवीएम मशीन के खराब होने की खबरें आ रही हैं, लेकिन फिर भी अपने मताधिकार के लिए ज़रूर जाएं और अपना कर्तव्य निभाएं। उन्होंने कहा कि शामली, कैराना, गंगोह, नकुड, थानाभवन और नूरपुर के लगभग 175 पोलिंग बूथों से EVM-VVPAT मशीन के खराब होने की शिकायत तुरंत सुनी जाए।’

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें