कैराना उपचुनाव में गठबंधन के लिए रालोद ने रखी ये शर्त

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की कैराना सीट पर होने जा रहे लोकसभा के उपचुनाव में विपक्ष की तरफ से साझा उम्मीदवार उतारे जाने को लेकर राष्ट्रीय लोकदल ने सपा बसपा के समक्ष शर्त रखी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार रालोद की शर्त है कि कैराना लोकसभा सीट पर होने वाले उप चुनाव में अजित सिंह के बेटे जयंत सिंह को उम्मीदवार बनाया जाय। अगर जयंत सिंह को उम्मीदवार नहीं बनाया गया तो रालोद कांग्रेस के साथ मिलकर कैराना उप चुनाव लड़ेगी।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश की फूलपुर और गोरखपुर सीट पर हाल ही में हुए लोकसभा के उपचुनाव में सपा उम्मीदवारों को बसपा ने अपना समर्थन दिया था। दो दलों के गठजोड़ का फायदा यह हुआ कि दोनों सीटों पर समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार विजयी हुए।

इस अनुभव को ध्यान में रखते हुए कैराना लोकसभा सीट पर उपचुनाव में भी सपा बसपा मिलकर अपना उम्मीदवार उतारना चाहते हैं लेकिन कैराना में राष्ट्रीय लोकदल को भी नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता इसलिए सपा बसपा चाहते हैं कि रालोद उनका समर्थन करे।

वहीँ अब रालोद द्वारा जयंत चौधरी को उम्मीदवार बनाये जाने की मांग रखे जाने के बाद संशय की स्थति पैदा हो गयी है। फ़िलहाल सपा बसपा को फैसला लेना है कि वह रालोद उम्मीदवार के रूप में जयंत चौधरी का समर्थन करते हैं या नहीं। वहीँ बीजेपी की तरफ से स्थति पहले ही साफ़ हो चुकी है।

बीजेपी ने कैराना लोकसभा सीट पर उपचुनाव के लिए यहाँ से सांसद रहे हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह का उम्मीदवार बनना तय है। यह सीट मृगांका सिंह के पिता पूर्व सांसद हुकुम सिंह के निधन के बाद खाली हुई है। कैराना लोकसभा सीट पर उप चुनाव 28 मई को होंगे। चुनाव आयोग ने इसका एलान कर दिया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें