किसानो की उम्मीद पर शिवराज का पानी, नहीं होगा किसानो का क़र्ज़ माफ़

भोपाल। किसानो की कर्ज माफ़ी के मुद्दे पर शिवराज सरकार ने एक बार फिर किसानो की उम्मीदो पर पानी फेर दिया है। कर्ज माफ़ी के मुद्दे पर असमंजस में फंसी शिवराज सरकार ने आखिर किसानो के कर्ज माफ़ करने की जगह किसानो को उचित मूल्य पर उपज खरीदने का लॉलीपॉप थमा दिया है।

राज्य के कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन लगातार कहते आ रहे हैं कि सरकार कर्जमाफी नहीं करेगी, क्योंकि राज्य सरकार किसान को शून्य प्रतिशत और खाद-बीज के कर्ज पर तो 10 प्रतिशत की अतिरिक्त सब्सिडी दी जा रही है, ऐसे में कर्जमाफी कैसे की जाए। कृषि मंत्री की बात पर बुधवार को मुख्यमंत्री चौहान ने भी शाजापुर में आयोजित एक सभा में मुहर लगा दी।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में किसान कर्जमाफी और फसल के उचित दाम के लिए संघर्ष कर रहे हैं, राज्य के मंदसौर में तो छह किसानों ने अपनी मांग को लेकर पुलिस कार्रवाई में जान तक दे चुके हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने शाजापुर के शुजालपुर विधानसभा क्षेत्र के अकोदिया मंडी में बुधवार को आयोजित आमसभा में कहा, “कर्जमाफी की बजाए किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम दिलाया जाएगा। कर्ज माफी समस्या का समाधान नहीं है। किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम मिलेगा, तो उनकी माली हालत मजबूत होगी और खेती लाभ का धंधा बनेगी।”

उन्होंने आगे कहा, “इस साल प्याज का बंपर उत्पादन हुआ है। सरकार ने आठ रुपए किलो प्याज की खरीदी की है, अकेले शाजापुर जिले में एक लाख 22 हजार मेट्रिक टन प्याज आठ रुपये किलो की दर पर खरीदा गया है। किसानों की मंडियों में भुगतान संबधी समस्याओं का निराकरण भी सरकार कर रही है। अब मंडियों में जितनी राशि उपलब्ध होगी उतना नगद भुगतान किया जाएगा और बाकी राशि आरटीजीएस के माध्यम से किसानों के खाते में अगले दिन तक जमा हो जाएगी, ऐसी व्यवस्था सरकार ने सुनिश्चित की है।

उन्होंने कहा कि सरकार मूंग, उड़द, अरहर समर्थन मूल्य पर खरीद रही है। सोयाबीन भी समर्थन मूल्य पर खरीदी जाएगी। सभा को सांसद एवं प्रदेश भाजपा अयक्ष नंदकुमार सिह चौहान, जिले के प्रभारी मंत्री दीपक जोशी, देवास शाजांपुर के सांसद मनोहर ऊंटवाल, क्षेत्रीय विधायक जसवंत सिह हाडा ने भी संबोधित किया।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें