कांग्रेस 29 अप्रेल को दिल्ली में ‘महारैली’ कर फूंकेगी मोदी सरकार के खिलाफ बिगुल

नई दिल्ली। 2019 के आम चुनावो के समय से पहले होने की आशंका के मद्देनज़र कांग्रेस ने अपनी तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया। सबसे बड़ा बदलाव कांग्रेस के प्रभारी महासचिव के पद पर चुनावी दृष्टि से बेहद अनुभवी माने जाने वाले राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की न्युक्ति है।

इसके साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्यों में गुटबंदी खत्म करने और परस्पर विरोधी रहे कांग्रेस नेताओं को एकजुट होकर काम करने का मंत्र भी दिया है जिसका सकारात्मक असर अब कांग्रेस में दिखाई देने लगा है।

कांग्रेस के प्रभारी महासचिव अशोक गहलोत ने एलान किया है कि कांग्रेस प्यार, सहनशीलता, सद्भाव, अहिंसा और भयमुक्त समाज के मॉडल की राजनीति का संकल्प लेकर दिल्ली के रामलीला मैदान में 29 अप्रैल को प्रदर्शन रैली करेगी।

उन्होंने कहा कि देश के वर्तमान हालात में लोगों को घुटन महसूस हो रही है। गहलोत ने कहा कि हमारी व्यक्तिगत नहीं संघर्ष या सिद्धातों, नीतियों की लड़ाई है।

उन्होंने कहा कि झूठे वादे कर मोदी जी ने अच्छे दिन आने की बात की थी। लेकिन चार सालों में किसी वर्ग ने महसूस नहीं किया कि अच्छे दिन आ गए हैं। व्यापार चौपट हो गए, आर्थिक स्थिति खराब, संवैधानिक संस्थाएं कमजोर होती जा रही हैं।

अशोक गहलोत ने मोदी सरकार की योजनाओं स्मार्ट सिटी, डिजिटल इंडिया, स्किल डेवलेपमेंट के बारे में कहा कि सरकारी योजनाएं धरातल पर दिखाई नहीं दे रही है तथा देश की कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है।

गहलोत ने कहा कि गुजरात चुनाव में मोदी ने वादों और राहुल गांधी के सवालों पर कोई जवाब न दिए। बस ये कहते रहे कि मैं यहां का हूं, बाहर के लोग आकर मेरी बेइज्जती कर रहे हैं। लेकिन अब ये सब नहीं चलेगा।

अशोक गहलोत ने कहा कि लोकतंत्र में कोई किसी को नहीं हटा सकता, सिर्फ जनता हटा सकती है। उन्होंने कहा कि चार वर्ष तक मोदी सरकार जनता को गुमराह करती रही। सरकार ने काम नहीं किया लेकिन इसके बावजूद अभी भी मोदी सरकार झूठे दावे भर रही है।

उन्होंने कहा कि देश की जनता अब मोदी सरकार से पीछा छुड़ाना चाहती है। देश के लोग घुटन महसूस कर रहे हैं। अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी करुणा, प्यार और शांति से लोकतांत्रिक राजनीति करने में विश्वास करते हैं, जबकि मोदी सरकार देश में लोकतांत्रिक संस्कृति को कमजोर कर रही है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *