कर्नाटक विधानसभा चुनावो में अपने उम्मीदवार खड़े नहीं करेगी ओवैसी की पार्टी

नई दिल्ली। कर्नाटक में होने जा रहे विधानसभा चुनावो में आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) अपने उम्मीदवार खड़े नहीं करेगी। शनिवार को एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने ऐलान किया कि उनकी पार्टी कर्नाटक विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ेगी।

उऩ्होंने कहा कि एआइएमआइएम राज्य में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के नेतृत्व वाले जनता दल (सेक्युलर) का समर्थन करेगी। ओवैसी ने कहा कि राष्ट्रीय पार्टी जनता की आकांक्षाओं को पूरा करने में विफल हो गई हैं। उन्हें कहा कि ये पार्टियां सिर्फ सत्ता में बने रहने के लिए लोगों को दिग्भ्रमित करती हैं।

उन्होंने इस बात को पूरी तरह से गलत बताया कि उनकी पार्टी के वोट काटने से भाजपा को फायदा होता है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने गुजरात, झारखंड और जम्मू कश्मीर के विधानसभा चुनावों में हिस्सा नहीं लिया।

इतना ही नहीं एआइएमआइएम ने उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव भी नहीं लड़ा। ओवैसी ने सवाल किया कि यहां कांग्रेस का क्या हुआ? अगर हमारे वोट काटने से भाजपा को फायदा होता तो यहां कांग्रेस की स्थिति कुछ और होनी चाहिए थी। पर हुआ इसके उल्टा। यहां इस पार्टी को काफी बुरी स्थिति का सामना करना पड़ा।

कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों पर 12 मई को वोट डाले जाने हैं। 15 मई को यहां मतों की गिनती की जाएगी। इस चुनाव में कांग्रेस, भाजपा और जेडीएस ने काफी जोर लगा रखा है।

कर्नाटक विधानसभा चुनावो के लिए प्रचार करने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह यहां का कई दौरा कर चुके हैं। इन दोनों नेताओं ने यहां न सिर्फ कई आम सभाएं की हैं बल्कि मंदिरों और मठों के दौरे भी किए हैं।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें