कम मतदान से बीजेपी गदगद, क्या कैराना और नूरपुर में हो सकता है फिर से मतदान !

नई दिल्ली(राजाज़ैद)। कैराना और नूरपुर में आज हुए मतदान के दौरान बड़ी तादाद में ईवीएम मशीनों की खराबी को लेकर विपक्ष के हमलो के बीच चुनाव आयोग ने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो दोबारा चुनाव कराए जा सकते हैं।

वहीँ कैराना में उम्मीद से कम मतदान (54.17 प्रतिशत) से बीजेपी खुश दिखाई दे रही है। जानकारों का कहना है कि कम मतदान का बड़ा मतलब मुस्लिम मतदाताओं के बड़ी तादाद में मत न पड़ना माना जाएगा।

जानकारों के अनुसार मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रो में सुबह ईवीएम मशीनों की खराबी के चलते मतदान के प्रतिशत में कमी आयी है। बीजेपी सूत्रों की माने तो कम मतदान होने से बीजेपी को फायदा मिल सकता है।

कैराना और नूरपुर के अलावा महाराष्ट्र की पालघर लोकसभा सीट पर भी कई पोलिंग बूथों पर ईवीएम मशीनों के ठीक ढंग से काम न करने की शिकायतों के बीच शिवसेना ने आरोप लगाया है कि ईवीएम की चाबी भारतीय जनता पार्टी के पास है। शिवसेना ने बड़ी तादाद में ईवीएम मशीनों की खराबी को साजिश करार दिया है।

कैराना और नूरपुर में ईवीएम और वीवीपैट मशीनों की खराबी के चलते कई जगह घंटो मतदान नहीं हो सका। कैराना से खुद बीजेपी प्रत्याशी मृगांका सिंह ने भी ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर बीजेपी के शीर्ष नेताओं से शिकायत की है। मृगांका सिंह ने कहा कि चुनाव के दौरान बड़ी संख्या में ईवीएम में गड़बड़ी की बात सामने आयी है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के वरिष्ठ नेता इस बारे में चुनाव आयोग से बात कर रहे हैं।

ईवीएम में गड़बड़ी पर शामली के जिलाधिकारी विक्रम सिंह ने कहा कि तेज गर्मी के चलते ईवीएम में गड़बड़ी पैदा होने की आशंका है। उन्होंने कहा कि जहाँ से भी ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत मिली वहां तुरंत ईवीएम मशीन को बदल दिया गया।

इससे पहले विपक्ष के एक प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से मिलकर कैराना और नूरपुर में ईवीएम मशीनों के काम न करने और चुनाव वाधित होने की शिकायत की। इस प्रतिनिधिमंडल में रालोद नेता चौधरी अजीत सिंह, कांग्रेस नेता आरपीएन सिंह तथा सपा नेता रामगोपाल यादव शामिल थे।

उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल वेंकटेश्वरलू ने कहा कि खराब ईवीएम बदली जा रही हैं। उन्होंने कहा, ”मैं राजनीतिक पार्टियों को आश्वासन देना चाहता हूं कि गड़बड़ ईवीएम मशीनें बदली जा रही हैं। अगर किसी वजह से वे बदल नहीं पाती हैं तो हम पुनर्मतदान का आदेश देने में हिचकिचाएंगे नहीं।” उन्होंने बताया कि अभी तक 384 ईवीएम और वीवीपैट कैराना और नूरपुर में बदली गई हैं।

इससे पहले मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल वेंकटेश्वरलू ने मतदान के लिए अतरिक्त समय देने की बात भी कही थी। उन्होंने कहा था कि सभी के वोट पड़ेंगे भले ही रात 12 तक पोलिंग क्यों न करानी पड़े।

फिलहाल नूरपुर और कैराना में मतदान सम्पन्न होगया है। अब चुनाव आयोग के फैसले का इंतज़ार है। क्या चुनाव आयोग कैराना और नूरपुर में पुनर्मतदान के आदेश जारी करता है या कुछ बूथों पर ही पुनर्मतदान होगा।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें