कमलनाथ के शपथ ग्रहण में दिखेगी महागठबंधन की ताकत

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में नए मुख्यमंत्री कमलनाथ 17 दिसंबर को शपथ ग्रहण करेंगे वहीँ अन्य मंत्रियों को एक दो दिन बाद विभागों एलान के बाद शपथ दिलाई जायेगी।

शपथग्रहण समारोह में यूपीए चेयर पर्सन सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, राज्यों के कांग्रेस मुख्यमंत्री के अलावा विपक्ष के दिग्गज भी शामिल होंगे। माना जा रहा है कि शपथ ग्रहण समारोह में महागठबंधन कोई झलक दिखेगी।

कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती, सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, कर्णाटक के मुख्यमंत्री कुमार स्वामी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, कम्युनिस्ट नेता सीताराम येचुरी और डी राजा तथा डीएमके नेता स्टालिन को निमंत्रण पत्र भेजे गए हैं।

मध्य प्रदेश में 15 साल का वनवास काटने के बाद सत्ता में आयी पार्टी राज्य में अपनी जड़ें मजबूत करने और 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों के तहत कई बड़े कदम उठा सकती है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक पार्टी हाईकमान द्वारा नए मुख्यमंत्री कमलनाथ से राज्य में मंत्रिमंडल में मंत्रियों की संख्या को सीमित रखने और स्वच्छ छवि वाले नेताओं को स्थान देने के लिए कहा गया है।

इतना ही नहीं पार्टी हाईकमान जल्दी ही कमलनाथ के स्थान पर कांग्रेस के नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम का एलान करेगी। जिससे संगठन का कामकाज न रुके। सूत्रों ने कहा कि नए प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर एक बार फिर दिग्विजय सिंह को राज्य कांग्रेस की बागडोर सौंपी जा सकती है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें