एबीपी-सीएसडीएस के आखिरी ओपिनियन पोल में पराजय के दरवाज़े पर पहुंची बीजेपी

नई दिल्ली। गुजरात विधानसभा चुनाव से 5 दिन पहले अपने आखिरी ओपिनियन पोल में एबीपी-सीएसडीएस ने बीजेपी को बड़ा झटका दिया है।

ओपिनियन पोल के मुताबिक गुजरात में “नैक तो नैक सिचुएशन” है। यदि ओपिनियन पोल पर भरोसा किया जाए तो बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का 150 सीटें जीतने का दावा मृत साबित होता दिख रहा है।

ओपिनियन पोल की माने तो भाजपा को 95 तो कांग्रेस को 82 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। जो निश्चित तौर पर बीजेपी के लिए बड़े खतरे की घंटी है।

ओपनियन पोल के अनुसार कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियों को 43% – 43% वोट मिलने की संभावना है। वहीँ 14% वोट अन्य को मिल सकते हैं। इसके हिसाब से अन्य को 5 सीटें मिल सकती हैं।

गौरतलब है कि इसके पहले एबीपी ने अपने चुनाव पूर्व सर्वे में भाजपा को 113 से 121 सीट मिलने का अनुमान लगाया था। तब कांग्रेस को महज 58-64 सीटें मिलने की बात कही गई थीं। लेकिन आज एबीपी-सीएसडीएस ओपनियन पोल में कांटे की टक्कर दर्शाते हुए भाजपा को 95 तो कांग्रेस को 82 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। वहीँ 5 सीटें अन्य के पास जाती दिख रही हैं।

ओपनियन पोल के मुताबिक 44 प्रतिशत व्यापारी जीएसटी से नाराज हैं। 37 प्रतिशत व्यापारी जीएसटी के समर्थन में आए हैं। वहीँ हार्दिक फेक्टर भी इस बार कांग्रेस के लिए मतों का प्रतिशत बढ़ा सकता है। पोल के अनुसार कांग्रेस को भाजपा से दो प्रतिशत अधिक पाटीदार समर्थन कर सकते हैं।

ओपिनियन पोल के अनुसार सौराष्ट्र में भाजपा को 45 फीसदी वोट मिल सकता है। कांग्रेस को 39 फीसदी वोट मिल सकता है। उत्तर गुजरात में कांग्रेस को 49 फीसदी और भाजपा को 45 फीसदी वोट मिल सकता है। वहीँ दक्षिण गुजरात में भाजपा को 40 फीसदी और कांग्रेस को 42 फीसदी वोट मिल सकता है।

मध्य गुजरात में भाजपा को 41% और कांग्रेस को 40% मिल सकता है। पोल के अनुसार कांग्रेस को ग्रामीण क्षेत्रों में इजाफा मिल सकता है। भाजपा को शहरी इलाकों में फायदा है।

ओपनियन पोल को सही मान लिया जाए तो बीजेपी के लिए राज्य में वापसी करना मुश्किल दिखाई दे रहा है। चुनाव में अभी 5 दिन का समय बाकी है। गुजरात में पहले चरण 9 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य में ताबड़तोड़ सभाएं कर रहे हैं। वहीँ कांग्रेस उपाध्यक्ष पहले चरण के चुनाव पूर्व अपना आखिरी चुनावी दौरा कर कई सभाओं को सम्बोधित करने वाले हैं।

ऐसे में चुनाव पूर्व शेष रहे समय में कुछ और मतदाता कांग्रेस की तरफ पलटे तो बीजेपी का राज्य की सत्ता से बाहर जाना तय हो जाएगा। ओपनियन पोल में आज दिखाए गए आंकड़ों को लेकर कांग्रेस अपनी रणनीति को सही मान रही है और यह उसके लिए उत्साहवर्धन जैसा है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें