एक घंटे लेट करने के बाद भी पीएम की रैली में नहीं जुटी भीड़, खाली पड़ी रहीं आधी से अधिक कुर्सियां

रायबरेली /नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आज उत्तर प्रदेश के रायबरेली में हुई रैली फीकी रही। भारतीय जनता पार्टी की तमाम कोशिशों के बाद भी रैली स्थल पर लगी आधे से अधिक कुर्सियां खाली पड़ी रहीं।

भीड़ जुटने के इन्तजार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को करीब एक घंटे लेट किया गया। इस दौरान राज्य बीजेपी के नेताओं ने अपना संबोधन जारी रखा। इसके बावजूद भीड़ बढ़ने की जगह कम होना शुरू हो गयी और जब योगी आदित्यनाथ मंच से सम्बोधित कर रहे थे। उस समय पीछे की पंक्तियों से लोगों ने उठना शुरू कर दिया था।

हालाँकि बीजेपी की तरफ से दावा किया जा रहा है कि जब पीएम नरेंद्र मोदी ने मंच से संबोधन शुरू किया था, उस समय भीड़ की तादाद बढ़ गयी थी लेकिन यह पूरी तरह सच नहीं है।

सच यह है कि जब पीएम नरेंद्र मोदी ने अपना संबोधन शुरू किया तो उस समय भी पीछे की पंक्तियों से लोगों का उठकर जाना जारी रहा और पीएम का संबोधन पूरा होने से पहले मैदान  में भीड़ काफी कम हो चुकी थी और रैली स्थल से लोगों का बाहर निकलना लगातार जारी रहा।

गौरतलब है कि रायबरेली नेहरू गांधी परिवार का परंपरागत गढ़ रहा है। यहाँ से यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी सांसद हैं। रायबरेली बीजेपी के लिए कभी सुरक्षित नहीं रहा और तमाम कोशिशों के बावजूद भी बीजेपी अभी तक रायबरेली में अपनी जड़ें नहीं जमा पायी है।

हालाँकि बतौर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रायबरेली में यह पहला कार्यक्रम था और पहले ही कार्यक्रम में स्थानीय जनता ने एक बड़ा सन्देश बीजेपी को दे दिया है।

तमाम इंतजामों और तामझामो के बावजूद जनता उम्मीद के मुताबिक तादाद में रैली स्थल तक नहीं पहुंची और जो लोग रैली में पहुंचे उनमे जोश कम मजबूरी अधिक दिखाई दे रही थी इसलिए वे भी जिन बीजेपी नेताओं के कहने पर रैली में आये थे उन्हें अपना चेहरा दिखाकर निकलने की कोशिशों में लगे रहे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें