उपचुनाव में विपक्ष को एकजुट करने को कल बैठक करेंगे अखिलेश !

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में दो संसदीय सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव में विपक्ष की तरफ से साझा उम्मीदवार उतारे जाने की संभावनाओं पर चर्चा के लिए शनिवार को उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विपक्षी दलों की बैठक बुलाई है।

इस बैठक में शामिल होने के लिए कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रीय लोकदल और कम्युनिस्ट दलों को आमंत्रित किया गया है। सपा सूत्रों की माने तो उत्तर प्रदेश में होने जा रहे गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों के उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ साझा उम्मीदवार उतारे जाने के लिए अखिलेश यादव अगुवाई कर रहे हैं

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस ने दोनो सीटों पर साझा उम्मीदवार के लिए अपनी सहमति दे दी है। वहीँ रालोद और कम्युनिस्ट को भी इस पर कोई आपत्ति नहीं है। विपक्ष के साझा उम्मीदवार को लेकर मूलतः बहुजन समाज पार्टी से बातचीत होनी है। सूत्रों ने कहा कि यदि सहमति बन गयी तो विपक्ष का यह गठजोड़ 2019 के लोकसभा चुनाव में भी जारी रहेगा।

सूत्रों ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी चाहती है कि सपा सहित अन्य दल उसे फूलपुर सीट पर समर्थन करे तो वह गोरखपुर सीट पर अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी। सूत्रों ने कहा कि कल चर्चा के बाद साफ़ हो पायेगा कि क्या अखिलेश यादव गोरखपुर सीट लेने और फूलपुर सीट छोड़ने के लिए तैयार होंगे ?

हालाँकि यह भी कहा जा रहा है कि बीएसपी उपचुनाव में अपना उम्मीदवार खड़ा करने से परहेज करती रही है। ऐसे में कल बैठक के बाद ही तय हो पायेगा कि इस बार ही बसपा उपचुनाव में अपने उम्मीदवार उतारेगी अथवा नहीं।

राजेंद्र चौधरी ने गुरुवार को कहा कि अखिलेश यादव ने 6 जनवरी को सभी विपक्षी दलों के शीर्ष नेताओं को बैठक के लिए बुलाया है। उन्होंने कहा कि बैठक में आगामी दो लोकसभा सीटों पर होने वाले चुनावों में बैलट पेपर का प्रयोग हो इसकी मांग को लेकर चर्चा होगी।

हालाँकि चौधरी ने इस बात से इंकार कर दिया कि उपचुनाव में विपक्ष एकजुट होकर चुनाव लड़ेगा, उन्होंने कहा कि सपा दोनो सीटों पर उम्मीदवार खड़े करेगा। लेकिन सपा के आंतरिक सूत्रों की माने तो अखिलेश चाहते हैं कि विपक्ष को एकजुट करने का यह सही अवसर है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें