उत्तर प्रदेश में 37-37 सीटों पर लड़ेंगे सपा, बसपा

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाजपार्टी के बीच गठबंधन होने की खबर है। दोनों पार्टियां राज्य की 80 लोकसभा सीटों में से 37-37 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे वहीँ 06 सीटें अन्य दलों के लिए छोड़ी गयी हैं।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को बसपा प्रमुख मायवाती से दिल्ली में उनके निवास पर मुलाकात की।

देर शाम करीब डेढ़ घंटे की मीटिंग के बाद दोनों नेता सीट-बंटवारे के फॉर्मूले को अंतिम रूप देने के करीब पहुंच गए हैं। हालांकि इस बारे में दोनों ही दलों की तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

दोनों पार्टियों ने यह फैसला कर लिया है कि किस-किस लोक सभा सीट पर किस पार्टी का प्रत्याशी होगा। बराबर-बराबर सीटों पर प्रत्याशी उतारने के पीछे बताया जा रहा है कि दोनों पार्टियां चाहती हैं कि किसी तरह का कोई विवाद न हो। माना जा रहा है कि दोनों ही अमेठी और रायबरेली पर अपना कोई प्रत्याशी नहीं उतारेंगे।

पिछले दिनों हुए लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव में सपा-बसपा गठबंधन को मिली जीत को देखते हुए यह तय माना जा रहा था कि दोनों पार्टियां मिलकर चुनाव लड़ेंगी, लेकिन सीट को लेकर बात अटक रही थी। मौजूदा परिस्थितियों और पिछले उपचुनाव के नतीजों को देखें तो सपा-बसपा के बीच यदि गठबंधन होता है तो इससे भाजपा को नुकसान होना तय माना जा रहा है।

अभी तक कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं:

सपा बसपा गठबंधन को लेकर मीडिया में आयी खबरों पर अभी किसी राजनैतिक दल की तरफ से कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आयी है। हालाँकि इससे पहले भी गठबंधन को लेकर खबर आयी थी लेकिन उस समय सपा और बसपा दोनों की तरफ से गठबंधन की खबरों का खंडन किया गया था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें