उत्तर प्रदेश को लेकर राहुल और चिदंबरम ने दिया बड़ा बयान

नई दिल्ली। आम चुनावो के लिए उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के एलान के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दुबई में और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने वाराणसी में बड़ा बयान दिया है।

दुबई में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि ” सपा और बसपा ने एक सियासी फैसला लिया है। अब ये हम पर निर्भर करता है कि हम किस तरह पूरी ताकत के साथ उत्तर प्रदेश में लड़ें।”

उन्होंने कहा कि “कांग्रेस पार्टी के पास उत्तर प्रदेश की जनता को देने के लिए कई चीजें हैं। मेरे दिल में सपा और बसपा नेताओं के लिए सम्मान है, वो जो फैसला लें, ये उनका अधिकार है।”

वहीँ दूसरी तरफ पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने वाराणसी में कहा कि यूपी में कोई भी पार्टी कांग्रेस को कम आंकने की भूल न करे। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अपने दम पर चुनाव लड़ेगी।

हाल ही में 3 राज्यों के विधानसभा चुनावो में कांग्रेस की जीत का उदाहरण देते हुए चिदंबरम ने कहा कि तीन राज्यों के चुनाव परिणाम साबित करते हैं कि कांग्रेस कमजोर नहीं हुई है। जनता ने भी बता दिया है कि वह क्या चाहती है।

लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस का घोषणापत्र तैयार करने वाली समिति के अध्यक्ष के तौर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री शनिवार को अलग-अलग वर्ग लगभग तीन सौ चुनिंदा प्रतिनिधियों की सलाह लेने आए थे।

कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बात करते हुए चिदंबरम ने कहा कि सपा-बसपा का गठबंधन आखिरी नहीं है। चुनाव तक हमारे सभी विकल्प खुले हैं। जरूरत पड़ी तो हम धर्मनिरपेक्ष ताकतों के साथ हम मिलकर चुनाव में उतरेंगे। हमारा मकसद भाजपा को हराना है और इसी मुद्दे पर सभी धर्मनिरपेक्ष पार्टियां एकसाथ आई हैं।

इससे पहले चुनावी घोषणा पत्र के लिए सुझाव देने आये लोगों से चिदंबरम ने कहा कि ये कांग्रेस का कार्यक्रम है। इसलिए आप झिझक के वही बात कहें जो आप कांग्रेस से करवाना चाहते हैं। मैं सब नोट करूँगा। जहाँ हमारी गलतियां रही होंगी हम उन्हें सुधारेंगे।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें
loading...