ईवीएम हैक का संदेह: स्ट्रांग रूम के पास वाईफाई नेटवर्क, रोकी गयी वाईफाई सेवा

सूरत। गुजरात के सूरत जनपद की कामरेज विधानसभा पर एक कॉलेज के स्ट्रांग रूम में रखी गयी ईवीएम कक्ष में वाईफाई नेटवर्क की मौजूदगी पाए जाने की कांग्रेस उम्मीदवार ने शिकायत की थी। जिसके बाद कॉलेज परिसर में वाईफाई सेवा को बंद कर दिया गया है।

कांग्रेस उम्मीदवार अशोक जरीवाला ने जिलाधिकारी से शिकायत की थी कि जिस जगह ईवीएम रखी गयी हैं, वहां वाईफाई नेटवर्क आ रहा है। ऐसे में ईवीएम हैकिंग की संभावनाएं प्रवल हो जाती हैं। जरीवाला की शिकायत के बाद जिलाधिकारी ने टीम भेजकर स्ट्रांग रूम का मुआयना कराया तो पाया गया कि स्ट्रांग रूम में भी वाईफाई सिग्नल मौजूद थे।

इसके बाद जिलाधिकारी ने कॉलेज परिसर की वाईफाई सेवा को बंद करने के निर्देश दिए। जिससे वहां रखी ईवीएम मशीनों से किसी तरह की छेड़छाड़ की कोई सम्भावना न पैदा हो।

कांग्रेस नेता ने अशोक जरीवाला ने कहा कि उन्होंने दो दिन पहले भी ऐसी ही शिकायत की थी, जिसके बाद कलक्टर ने परिसर में वाई-फाई सेवा पर रोक लगाने के आदेश दिए थे । जरीवाला ने कहा, ‘‘लेकिन आज फिर हमने उसे सक्रिय पाया । हम कोई जोखिम नहीं लेना चाहते, क्योंकि ईवीएम की हैकिंग और उनसे छेड़छाड़ की आशंका है ।’’

सूरत के जिलाधिकारी महेंद्र कलेक्टर ने कहा, ‘‘वे जिस वाई-फाई सेवा की बात कर रहे हैं वह कॉलेज की है और छात्रों के लिए है और हम समझते हैं कि इसके इस्तेमाल से ईवीएम में छेड़छाड़ की कोई आशंका नहीं है । बहरहाल, उनके संदेह को दूर करते हुए हमने इस पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं ।’

गौरतलब है कि पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने गुजरात चुनाव के परिणामो को प्रभावित करने के लिए ईवीएम से छेड़छाड़ किये जाने की आशंका व्यक्ति की है। उन्होंने ट्विटर पर दावा किया कि गुजरात में 5000 ईवीएम मशीनों को हैक करने के लिए बीजेपी ने 140 सॉफ्टवेयर इंजीनियरों को तैनात किया है।

ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें